कई बार असफल होने के बाद भी नहीं मानी हार, कठिन संघर्ष के बाद बन गई IAS अफसर

यूपीएससी एक ऐसा सपना है जिसको पूरा करने के लिए हर साल लाखों बच्चे मेहनत करते है. कई बच्चे तो पहले प्रयास में इस परीक्षा को पास कर लेते हैं लेकिन कई ऐसे होते हैं जिन्हें बार-बार हार का सामना करना पड़ता है और फिर कड़ी मेहनत के बाद वह इस परीक्षा में सफलता हासिल करते हैं.

2018 में 11वीं रैंक पाने वाली यूपीएससी टॉपर पूज्य प्रियदर्शनी का कहना है कि कभी भी अपने गोल्स को लेकर इमोशनल नहीं होना चाहिए. प्रियदर्शनी का कहना है कि हमेशा अपने पास प्लान भी रखना चाहिए. यूपीएससी की तैयारी करने वाले प्रदर्शनी ने कभी भी अपनी नौकरी नहीं छोड़ी बल्कि उन्होंने अपनी नौकरी के साथ यूपीएससी की तैयारी की और बार बार हार का सामना करने के बाद भी हार ना मानते हुए वह कोशिश जारी रखी और अंततः सफल हो गई.

पूज्य का बैकग्राउंड – पूज्य प्रियदर्शनी ने दिल्ली के श्रीराम कॉलेज से बीकॉम किया और ग्रेजुएशन के अंतिम साल 2013 में उन्हें यूपीएससी का एग्जाम दिया लेकिन उनकी तैयारी अच्छी नहीं थी जिसके कारण उन्हें फेल होना पड़ा. यूपीएससी में फेल होने के बाद पूज्य प्रियदर्शनी ने न्यूयॉर्क से मास्टर्स किया और नौकरी करने लगी. नौकरी के साथ उन्होंने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी और इस यूपीएससी की परीक्षा में उन्हें चार बार हार का सामना करना पड़ा है. लेकिन ना तो उन्होंने नौकरी छोड़ी और ना ही यूपीएससी की तैयारी.

दूसरे अटेम्पट में पहुंची साक्षात्कार तक –

2013 के बाद उन्होंने 2016 में फिर यूपीएससी का एग्जाम दिया इस बार वह इंटरव्यू राउंड तक पहुंची लेकिन फिर उन्हें हार का सामना करना पड़ा. इस बार उनका हिम्मत बहुत ज्यादा टूट गया लेकिन फिर उन्होंने हिम्मत जुटाया और यूपीएससी के एग्जाम दी. प्रियदर्शिनी ने 2017 में यूपीएससी का एग्जाम दिया इस बार वह प्री एग्जाम भी पास नहीं कर पाई. इस बार उनके पास जो बचा हुआ हौसला था वह भी टूट गया और उन्होंने सोच लिया की वह अब कभी यूपीएससी का एग्जाम नहीं देंगी.

माता – पिता से ली प्रेरणा –

प्रदर्शनी का हिम्मत पूरी तरह से टूट चुका था लेकिन तभी उनकी मम्मी पापा ने उनका फिर से हिम्मत बढ़ाया. उनके मम्मी पापा दोनों सिविल सर्विस में थे जिसको देखकर उन्होंने हिम्मत किया और फिर से एग्जाम दिया. इस वर्ष 2019 में उन्हें 11वीं रैंक मिली और उन्होंने यू पी एस सी के एग्जाम क्रैक कर लिया .

पूज्य की सलाह – प्रियदर्शनी ने स्टूडेंट को सलाह दिया कि कभी हिम्मत नहीं हारे और मेहनत करते रहे. करंट अफेयर्स पर फोकस करें और साथ ही साथ ऑप्शनल सब्जेक्ट अपने इंटरेस्ट का चुने.