आने वाले दिनों में फिर से बढ़ेंगे पेट्रोल और डीजल की कीमत,जानिए क्या है कारण

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी होने के बाद दिवाली के अवसर पर सरकार लोगों को बढ़ते पेट्रोल और डीजल की कीमतों में राहत दी है.केंद्र सरकार ने पेट्रोल की कीमत पर ₹5 और डीजल की कीमत में ₹10 घटा दिया था उसके बाद राज सरकार उन्हें भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर वैट कम कर दिया.

पेट्रोल और डीजल का कम हुआ दाम हमेशा स्थिर नहीं रहेगा. रोज पेट्रोल और डीजल का नया रेट जारी होता रहेगा. अगर पेट्रोल और डीजल के नए कीमतों में बढ़ोतरी होती है तो एक बार फिर से पेट्रोल और डीजल की कीमत बढ़ जाएगा. अभी के समय में 86% डीजल आयात किया जाता है.

पेट्रोल और डीजल की कीमत किसी भी सरकार के हाथ में नहीं होता है.इसका निर्धारण बाहर की सरकार के द्वारा किया जाता है.अगर विदेशों में पेट्रोल और डीजल का कीमत बढ़ेगा तो भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमत में एक बार भारी उछाल देखने को मिल सकता है.

केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल के ऊपर लगने वाले उत्पाद शुल्क को कम किया है लेकिन ऐसा नहीं है कि यह हमेशा लागू रहेगा. जब पेट्रोल और डीजल की कीमत कम रहती है तब सरकार उत्पाद की कीमतों में बढ़ोतरी कर देती है लेकिन जब इसकी कीमतों में बढ़ोतरी होती है तो सरकार उत्पाद की कीमतों में कुछ कमी करती है. अभी केंद्र सरकार ने पेट्रोल डीजल की कीमतों में कमी किया उसके बाद से 3 राज्य की सरकारों ने इसके वैट के दरों में कमी कर दी है.