अब बिहार के गांव में होगा चलता फिरता अस्पताल। वैन में डॉक्टर नर्स के अलावा ये सुविधाएं होंगी उपलब्ध

बिहार सरकार ग्रामीण इलाकों में निचले पायदान पर खड़े व्यक्ति तक भी स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने का प्रयास कर रही है। इसके लिए मोबाइल हेल्थ एंड वैलनेस सिस्टम बनाया जा रहा है। अब सेहत की जांच और समय पर बीमारियों को डिटेक्ट करने के साथ यह व्यवस्था गांवों में स्वास्थ्य को लेकर जागरूकता पैदा करेगी। गुरुवार को सीएम के गृह जिले नालंदा और मुजफ्फरपुर से इसकी शुरुआत की गई। इस हाईटेक मोबाइल हेल्थ एंड वेलनेस सेटर में मेडिकल इक्विपमेंट के साथ टेक्नीशियन की व्यवस्था होगी।

बता दें कि यह योजना आयुष्मान भारत मिशन के तहत चलाई जा रही है। गुरुवार को राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह ने मोबाइल हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इन मोबाइल वैन यानी चलंत वाहनों में सामान्य गैर संचारी रोगों स्क्रीनिंग और सामान्य नेत्र विकारों के उपचार की सुविधा उपलब्ध होगी।

ये सुवधाएं रहेंगी उपलब्ध।

स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जानकारी दी गई कि मोबाइल हेल्थ एंड वैलनेस वाहन में चिकित्सकीय परामर्श के लिए टेलीकंसल्टेशन की भी सुविधा होगी। इस वाहन में एक स्टाफ नर्स एक नेत्र सहायक मौजूद रहेंगे एवं नेत्र जांच से संबंधित आधुनिक उपकरण भी वाहन के अंदर मौजूद हैं, जिससे लाभार्थी मौके पर ही नेत्र जांच की सुविधा का लाभ उठा पाएंगे। वाहन के माध्यम से दवा और उपकरण की व्यवस्था रहेगी।

इस मोबाइल वैन के माध्यम से ग्रामीण लोगों के बीच स्वास्थ्य को लेकर जागरूकता पैदा की जाएगी।