अच्छी खबर : रेलवे देगा 50 हजार युवाओं को ट्रेनिंग, रोजगार के लिए तैयार करने हेतु कई ट्रेड में दिया जाएगा प्रशिक्षण, जाने पूरी डिटेल्स

भारतीय रेल द्वारा देश के 75 प्रशिक्षण केंद्रों में रेल कौशल विकास योजना की शुरुआत की गई है। इनमें पूर्व मध्य रेल के भी तीन प्रशिक्षण केंद्र, समस्तीपुर हरनौत और डीडीयू शामिल है। इन केंद्रों पर युवाओं को तकनीकी कौशल विकास प्रशिक्षण दिया जाएगा।

रेलवे के द्वारा चार ट्रेडों, फिटर, इलेक्ट्रीशियन, मशीनिस्ट और वेल्डर ट्रेड में प्रशिक्षण दिया जाएगा।

इसके तहत 100 घंटे का प्रारंभिक बुनियादी प्रशिक्षण होगा। आने के लिए न्यूनतम योग्यता 10 वीं पास रखी गई है। वही इसके लिए उम्र सीमा 18 से 35 वर्ष है।

प्रतिभागियों का चयन मैट्रिक में अंकों के आधार पर एक पारदर्शी तंत्र का पालन करते हुए ऑनलाइन प्राप्त किए गए आवेदनों में से किया जाएगा।

बता दें कि डीजल लोकोमोटिव वर्क्स (डीएलडब्लू) वाराणसी द्वारा इसके पाठ्यक्रम को विकसित किया गया है। प्रशिक्षुओं को एक मानकीकृत मूल्यांकन से गुजरना होगा और उनके कार्यक्रम के समापन पर राष्ट्रीय रेल और परिवहन संस्थान द्वारा आवंटित व्यापार में प्रमाणपत्र प्रदान किया जाएगा। उन्हें उनके व्यापार के लिए यथोचित टूलकिट भी प्रदान किए जाएंगे, जिससे इन प्रशिक्षुओं को अपनी शिक्षा का उपयोग करने और स्व-रोजगार के साथ-साथ विभिन्न उद्योगों में रोजगार की क्षमता बढ़ाने में मदद मिलेगी।

इस योजना के माध्यम से देश के युवाओं को उद्योग आधारित कौशल प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा जिससे वह रोजगार प्राप्त करने में सक्षम बन सके।