अच्छी खबर : बिहार वासियों को मिलेगी सस्ती बिजली, बदलने जा रहा है मौजूदा टैरिफ और स्लैब। जानिए डिटेल्स

बिजली विभाग की तरफ से बिहार वासियों को एक अच्छी खबर दी गई है। आने वाले दिनों में बिहार में बिजली बिल की दर में कमी की जा सकती है। बिजली कंपनी इस मुद्दे पर काम कर रही है। टैरिफ और स्लैब में बदलाव बिहार विद्युत विनियामक आयोग की सहमति के बाद ही होगा। एक नवम्बर यानी सोमवार को बिजली कंपनी के नौवें स्थापना दिवस के मौके पर ऊर्जा सचिव सह सीएमडी संजीव हंस ने यह जानकारी दी।

स्लैब में किया जाएगा बदलाव।

बिजली कंपनी के सीएमडी ने बताया कि पूर्व में बिजली में 90 श्रेणियों को कम करके तीन दर्जन तक लाया जाएगा। इससे बिजली दर की असमानता दूर होगी। इसके अलावा पांच स्लैब की जगह तीन स्लैब किए जाएंगे। एक दर होने पर उपभोक्ता आसानी से समझ सकेंगे कि उन्होंने कितनी बिजली खपत की है।

स्मार्ट प्रीपेड मीटर से उपभोक्ताओं को होगा फायदा।

सीएमडी से जब स्मार्ट प्रीपेड मीटर के बारे में पत्रकारों ने सवाल किया तो उन्होंने साफ तौर पर कहा कि पहले की तुलना में उपभोक्ताओं के लिए अधिक हितकारी है। पहले मीटर लगाने पर उपभोक्ताओं से पैसे लिए जाते थे। जबकि स्मार्ट मीटर कंपनी की ओर से नि:शुल्क लगाया जा रहा है। बिजली बिल की परेशानी दूर हो गई है। कंपनी ने यह प्रावधान किया है कि आठ साल तक एजेंसी स्मार्ट मीटर का रखरखाव भी करेगी। मीटर रिचार्ज कराने पर तीन फीसदी की छूट दी जा रही है। पहले समय पर बिजली बिल ऑनलाइन जमा करने पर ढाई फीसदी ही छूट दी जा रही थी। जिन लोगों को लग रहा है कि उनका बिजली बिल अधिक आ रहा है, वे अपने लोड का आकलन कर उसके अनुसार कनेक्शन का भार बढ़वा लें।

किसी भी समस्या के लिए जारी होगा टोल फ्री नंबर।

सीएमडी ने जानकारी दी कि जल्द ही उपभोक्ताओं की समस्या के समाधान के लिए एक टोल फ्री नंबर जारी किया जाएगा। इसके अलावा भी फिलहाल 1912 पर संपर्क कर सकते हैं। अभी ईईएसएल की ओर से स्मार्ट मीटर लगाए जा रहे हैं। तीन लाख से अधिक लग चुके हैं। अगले चरण में ग्रामीण इलाकों में भी स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। राज्य मंत्रिमंडल की ओर से पारित प्रस्ताव के अनुसार कंपनी ने वितरण कंपनियों को भी स्मार्ट मीटर लगाने का जिम्मा दे दिया है। जानकारी के अनुसार जिन इलाकों में बिजली के स्मार्ट मीटर लगाए गए हैं वहां पर कंपनी की आय में 30% वृद्धि हुई है।