अच्छी खबर : बिहार में सरकारी भवनों पर लगेंगे सोलर प्लांट, सौर ऊर्जा से होगी बिजली की आपूर्ति

बिहार सरकार प्रदेश में ऊर्जा के अन्य विकल्पों पर कार्य कर रही है। जल जीवन हरियाली मिशन के तहत राज्य सरकार का यह लक्ष्य है कि सरकारी भवनों पर ज्यादा से ज्यादा सोलर प्लांट लगाया जाए। बता दें कि यह प्लांट ग्रिड से जुड़े रहेंगे जिससे इंप्लांट्स उत्पादित बिजली का उपयोग संबंधित भवन में करने के बाद बची हुई बिजली की आपूर्ति ग्रिड के माध्यम से बिजली कंपनी को की जाएगी।

राजस्व की भी होगी प्राप्ति।

सभी सरकारी भवनों पर भारी संख्या में सोलर पैनल लगाए जाएंगे। इन से उत्पादित बिजली को संबंधित भवन में सप्लाई किया जाएगा। इसके अलावा जो बिजली बचेगी उसे ग्रिड के माध्यम से बिजली कंपनी को बेच दी जाएगी भवन और विभाग को राजस्व लाभ होगा। सोलर प्लांट लगाने का कार्य इसी वर्ष के अंत तक ब्रेडा के माध्यम से शुरू हो सकता है।

इस योजना पर चल रहा है काम।

इस वर्ष 29 जून 2021 को विकास आयुक्त की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में यह निर्णय लिया गया था सारी भवनों पर ग्रिड कनेक्टेड सोलर प्लांट लगाया जाएंगे। इसके लिए विस्तृत योजना आने और कार्रवाई का निर्देश संबंधित विभागों को दिया गया था। एक सितंबर को ही भवन निर्माण विभाग से सरकारी भवनों की सूची मांगी गई थी। यह सूची अगले महीने तक ऊर्जा विभाग को उपलब्ध हो सकती है। बता दें कि जीन सरकारी भवनों के छत का क्षेत्रफल करीब 10 वर्ग मीटर होगा और वहां छाया नहीं आती होगी वैसे भवनों को प्राथमिकता के आधार पर इस योजना में शामिल किया जाएगा। सोलर प्लांट लग जाने के बाद सरकारी भवनों पर आने वाले हजारों रुपए का बिजली बिल की बचत होगी।