अच्छी खबर : झारखंड में वीकेंड लॉकडाउन हुआ खत्म, जानिए क्या छूट मिला है

कोरोना संक्रमण के कारण झारखंड में लागू वीकेंड लॉकडाउन समेत सभी प्रकार के लॉकडाउन को वापस ले लिया गया है. इसके तहत जहां वीकेंड लॉकडाउन खत्म हो गया, वहीं राज्य के सभी दुकानें अब सामान्य रूप से खुलेंगी. राज्य में 11 अप्रैल के पहले की स्थिति बहाल कर दी गयी है. सिनेमा हॉल व क्लब भी सामान्य दिनों तक खुले रह सकेंगे. वर्तमान में कोरोना संक्रमण पर धीरे-धीरे काबू पाने के कारण राज्य की हेमंत सरकार ने अहम फैसले लिये हैं. शुक्रवार को सीएम हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में यह निर्णय लिया गया.

इसके अलावा कोरोना गाइडलाइन के तहत सरकार ने नदी एवं तालाबों में छठ पर्व मनाने की छूट दी गयी. कहा गया कि महापर्व हर्षोल्लास के साथ मनाये, लेकिन काेरोना प्रोटोकॉल को जरूर अपनाये. लोग मास्क पहन कर नदी-तालाब में जायें, वहीं अधिक भीड़ से बचें. सोशल डिस्टैंसिंग का भी हर हाल में पालन करें.

वहीं, रांची जेसीए स्टेडियम में 19 नवंबर, 2021 को खेले जानेवाले भारत- न्यूजीलैंड T-20 मैच में स्टेडियम की कुल क्षमता के 50 फीसदी दर्शकों के साथ प्रवेश करने की इजाजत दी गयी है. हेमंत सरकार के इस फैसले से खेल प्रेमियों को काफी राहत मिली है. अब रांची के इस स्टेडियम में भी दर्शकों के साथ T-20 मैच होगा.

शुक्रवार को हुई आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में सभी प्रकार के लॉकडाउन को खत्म करने पर अहम फैसले लिये गये. कोरोना संक्रमण के कारण राज्य में 22 अप्रैल, 2021 से जारी वीकेंड लाॅकडाउन को खत्म कर दिया गया है. इससे रविवार को संपूर्ण लॉकडाउन खत्म हो गया है. अब अन्य दिनों की तरह संडे (रविवार) को भी दुकानें खुलेंगी. वहीं, रात 8 बजे के बाद भी अब पहले की तरह सभी तरह की दुकानें खुल सकेगी. बता दें कि पहले शनिवार रात 8 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक वीकेंड लॉकडाउन था. इसके साथ ही राज्य में लागू सभी प्रकार के लॉकडाउन को खत्म कर दिया गया है. इसके साथ ही राज्य में 11 अप्रैल के पहले की स्थिति फिर से बहाल कर दी गयी है.

इसके अलावा कोचिंग सेंटर में उम्र की बाध्यता अब पूरी तरह से खत्म कर दी गयी है. इसके साथ ही अब हर उम्र के बच्चे कोचिंग संस्थान में अध्ययन करने जा सकते हैं. पहले यह 18 वर्ष या उससे ऊपर के बच्चों को ही कोचिंग में जाने की छूट दी गयी थी, लेकिन अब इसकी बाध्यता को भी खत्म कर दिया गया है.

इसके अलावा वैवाहिक कार्यक्रम में 500 की संख्या में लोग शामिल हो सकेंगे. बड़े हॉल में 50 फीसदी लोग एक साथ रह सकेंगे. वहीं, बैंक्वेट हॉल की क्षमता का 50 प्रतिशत ही लोग रह सकेंगे. राज्य में वैसे आंगनबाड़ी केंद्रों को खोलने की मंजूरी दी गयी है, जहां सेविकाएं कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ली होंगी.

हालांकि, इस बैठक में कई पाबंदियां पूर्व की तरह जारी रहेंगी. इसके तहत प्रदर्शनी और जुलूस मेला पर पहले की तरह ही पाबंदियां जारी रहेगी. वहीं, कक्षा एक से पांचवीं तक की कक्षाएं अभी भी बंद रहेगी. आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में बैठक में मुख्यमंत्री के अलावा आपदा प्रबंधन मंत्री बन्ना गुप्ता, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, वित्त विभाग के प्रधान सचिव अजय कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, आपदा प्रबंधन सचिव अमिताभ कौशल, कृषि सचिव अबु बकर सिद्दीकी व NRHM के अभियान निदेशक रमेश घोलप मौजूद थे.