Home देश Live News - #News18OperationHathras: FIR करने वाले SO का चौंकाने वाला बयान,...

Live News – #News18OperationHathras: FIR करने वाले SO का चौंकाने वाला बयान, पहले सिर्फ एक आरोपी था, गैंगरेप की बात नकारी

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हाथरस (Hathras) जिले में 19 साल की एक दलित लड़की के साथ हुए कथित गैंगरेप (Gangrape) और उसकी मौत के बाद आधी रात को हुए अंतिम संस्कार को लेकर लगातार विवाद बना हुआ है.  #News18OperationHathras के तहत News18 की टीम खुफिया कैमरों के साथ इस मामले को लेकर किए जा रहे झूठे दावों और फर्जी खबरों के पीछे छिपे सच को जानने के लिए हाथरस पहुंची, जिससे ये पता चल सके कि पीड़िता के साथ आखिर क्या हुआ था? न्यूज18 ने इस घटना से जुड़े उन लोगों से बातचीत की जिन्होंने सबसे पहले इस मामले को हैंडल किया था. हाथरस के निलंबित इंस्पेक्टर दिनेश शर्मा से न्यूज18 ने बातचीत की. शर्मा ने कहा कि उन्हें इसलिए निलंबित किया गया क्योंकि वह इस मामले को दबा नहीं पाए. 14 तारीख को जो शिकायत की गई जिसमें कहा गया था कि संदीप ने जान से मारने के इरादे से पीड़िता का गला दबाया.

एसओ दिनेश शर्मा ने कहा कि सबसे पहले एफआईआर सिर्फ एक आरोपी संदीप के खिलाफ दर्ज की गई थी, एसओ दिनेश वर्मा ने कहा कि चार आरोपी राजनीति के तहत आ गए कि उनसे कह दिया गया होगा कि 25-30 लाख रुपये मिल जाएंगे. एसओ दिनेश वर्मा के मुताबिक घटना की पहली शिकायत, सिर्फ इतनी थी कि संदीप ने जान से मारने की नीयत से पीड़िता का गला दबाया है. दिनेश ने बताया कि 14 तारीख को सिर्फ पीड़िता ही नहीं, उसकी मां और भाई भी पुलिस से यही शिकायत कर रहे थे.

शर्मा ने कहा कि ये गैंगरेप का केस नहीं है पहली शिकायत में न तो पीड़िता ने, न ही उसकी मां ने और न ही भाई ने बलात्कर की बात कही थी. उन्होंने कहा कि रेप की बात बाद में कही गई, यह सिर्फ धारा 307 का मामला है.

ये भी पढ़ें- नेताओं और पत्रकारों पर देशद्रोह से लेकर दंगा फैलाने तक का केस, 10 बिंदुओं में जानें पूरा मामला307 के तहत दर्ज हुई थी पहली FIR
शर्मा ने कहा कि पहली एफआईआर एससी/एसटी और 307 के तहत दर्ज की गई थी न कि रेप की एफआईआर दर्ज की गई थी. उन्होंने कहा कि 14 को जो मेडिकल हुआ उसमें रेप की बात सामने नहीं आई थी. दोबारा जब 22 तारीख को इंटर्नल मेडिकल हुई उसमें भी कुछ सामने नहीं आया.

शर्मा ने कहा कि रेप की बात न मां के दिमाग में थी, न लड़की के भाई के और न ही लड़की है. शर्मा ने आगे कहा कि एलआईयू की रिपोर्ट के मुताबिक परिवार लड़की का शव रखकर सीएम योगी आदित्यनाथ को बुलाने की मांग करने वाले थे इसलिए लड़की का शव रात को ही जलाना पड़ा

Most Popular