Live News – Cyber Crime: सिक्योरिटी गार्ड ने डिप्टी मैनेजर को लगाया 28 लाख का चूना, जानें कैसे

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की साइबर टीम के पास एक बेहद ही हैरान करने वाला मामला आया है. दर्ज रिपोर्ट के अनुसार अलीगढ़, यूपी के रहने वाले एक सिक्योरिटी गार्ड ने डिप्टी मैनेजर (Deputy manager) को 28 लाख रुपय का चूना लगा दिया है. या यूं कहें कि साइबर फ्रॉड (Cyber Fraud) किया है. हालांकि यह बात सुनने में बड़ी अटपटी लगती है कि एक सिक्योरिटी गार्ड (Security guard) किसी पढ़े-लिखे डिप्टी मैनेजर को कैसे चूना लगा सकता है, वो भी इंटरनेट (Internet) के जरिए. लेकिन ऐसा हुआ है. पुलिस ने तत्परता के साथ कार्रवाई करते हुए आरोपी गार्ड को हिरासत में ले लिया है.

नई नौकरी के नाम पर साइबर फ्रॉड
दक्षिण दिल्ली पुलिस की साइबर टीम ने एक निजी कम्पनी के एक सुरक्षा गार्ड को 28 लाख की धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार किया है. गार्ड पर आरोप है कि उसने अपने साथी के साथ मिलकर एक डिप्टी मैनेजर को ही चूना लगा दिया. दरअसल, मालवीय नगर निवासी और टाटा प्रोजेक्ट में बतौर डिप्टी मैनेजर काम करने वाली एक महिला इंजीनियर ने शिकायत दी कि वो दूसरी नौकरी तलाश रही थी. इसी दौरान जुलाई 2020 में उसे VOIP के जरिए कॉल आई. पीड़ित ने आरोप लगाया कि ये कॉल नौकरी डॉट कॉम की तरफ से बताया गया था. कॉल पर बात करने वाले एक शख्स ने खुद को राहुल बताया और जानकारी दी कि उसका CV DLf pvt कम्पनी के लिए सेलेक्ट हो गया है.

सत्येन्द्र जैन बोले- कम हो गया दिल्ली में कोरोना का पीक, जानें इस दावे की हकीकतनौकरी में बांड के नाम पर जमा करा लाखों रुपए

पीड़िता का कहना है कि एक दिन फिर से उसे फोन आया. फोन करने वाले ने खुद को DLF की तरफ से HR होने का परिचय दिया और जॉब में सीनियर मैनेजर के पद पर चयन की जानकारी दी. लेकिन चयन की प्रक्रिया पूरी करने के लिए 28 लाख रुपए का बांड बनाने के लिए कहा गया. सबसे पहले 6.8 लाख रुपए जमा करवाए गए. इसी तरह अलग-अलग खातों में उसने 28 लाख जमा कराकर ऐंठ लिए.

Horrible VIDEO: चलती होंडा सिटी कार पर गिरा चावल से भरा कंटेनर, देखें फिर क्‍या हुआ

फोटो से पकड़ा गया आरोपी गार्ड और उसका साथी
6 अक्टूबर को मालवीय नगर थाने में धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज की गई. उसके बाद मामला साइबर सेल को सौंप दिया गया. साइबर सेल की टीम बैंक खातों और फोन नम्बर के जरिये आरोपी के पते तक पहुंच गई. मालूम हुआ कि आरोपी गौतम बुद्ध नगर के सेक्टर 122 से जालसाजी कर रहे थे. लेकिन कॉल डिटेल रिकॉर्ड में सामने आए पते पर छापा मारा गया तो आरोपी नहीं मिले.

लेकिन जब पुलिस ने उसकी फोटो को दिखाकर तलाश शुरू की तो आरोपी पिंकेश कुमार को सेक्टर 122 के पार्थला खंजरपुर इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया. उसके पास से एक मोबाइल फोन बरामद हुआ है. आरोपी अलीगढ़ का रहने वाला है और नोएडा में एक कंपनी में गार्ड था.