Live News – Covid-19 के बीच बिहार चुनाव विश्व की सबसे बड़ी चुनावी कवायद, अतिरिक्त सावधानी बरतें: CEC

नई दिल्ली. मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) सुनील अरोड़ा (CEC Sunil Arora) ने सोमवार को पर्यवेक्षकों से कहा कि कोविड-19 (Covid-19) के बीच बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) विश्व की सबसे बड़ी चुनावी कवायद है और उन्हें अतिरिक्त सावधानी बरतने की आवश्यकता है. अरोड़ा ने कहा कि इस चुनाव पर पूरे विश्व समुदाय की नजर होगी. उन्होंने स्वतंत्र, निष्पक्ष, पारदर्शी, नियम अनुपालन से युक्त और ‘‘कोविड सुरक्षित’’ चुनाव कराने की निर्वाचन आयोग की प्रतिबद्धता दोहराई.

बिहार में तैनात चुनाव पर्यवेक्षकों को संबोधित करते हुए अरोड़ा ने कहा कि लोकतंत्र की शक्ति मतदाताओं में निहित है. निर्वाचन आयोग ने उनके हवाले से एक बयान में कहा, ‘‘मतदाता में यह विश्वास भरने के लिए सभी प्रयास किए जाने चाहिए कि वह मतदान के दिन सुरक्षित और स्वतंत्र रूप से अपना वोट डालने मतदान केंद्र पहुंचे.’’ उन्होंने अतिरिक्त सावधानी बरतने की आवश्यकता रेखांकित करते हुए कहा कि महामारी के बीच दुनियाभर में हो रहे इस सबसे बड़े चुनाव पर विश्व समुदाय की उत्सुकता से नजर होगी.

ये भी पढ़ें- 15 अक्टूबर से खुल रहे स्कूलों के लिए शिक्षा मंत्रालय ने जारी किए दिशानिर्देश

मार्गदर्शक की भूमिका निभाएं पर्यवेक्षकमुख्य चुनाव आयुक्त ने पर्यवेक्षकों का आह्वान किया कि वे स्थानीय चुनाव मशीनरी के मित्र, दार्शनिक और मार्गदर्शक की भूमिका निभाएं तथा उसकी मदद करें और उसके मुद्दों का समाधान करें. उन्होंने चुनाव में महत्वपूर्ण भूमिका के लिए विगत के कुछ विशेष व्यय पर्यवेक्षकों की उनकी प्रतिबद्धता और समर्पण की सराहना की.

बयान में कहा गया कि सोमवार को हुई बैठक डिजिटल और भौतिक उपस्थिति का मिश्रण थी जिसमें 700 से अधिक सामान्य, पुलिस और व्यय पर्यवेक्षक देश के 119 स्थानों से शामिल हुए तथा दिल्ली में पदस्थ लगभग 40 पर्यवेक्षक भौतिक रूप से उपस्थित हुए.

ये भी पढ़ें- Indian Railways ने भारत-पाक के बीच चलने वाली पुरानी ट्रेन को किया अपग्रेड

चुनाव आयुक्त ने बताए दिशा-निर्देश
इस दौरान चुनाव आयुक्त सुशील चंद्र ने अधिकारियों को दिशा-निर्देशों के बारे में बताया. उन्होंने अधिकारियों को सुझाव दिया कि वे शिकायतों का सक्रियता से समाधान करें और अपनी ड्यूटी निष्पक्ष तरीके से निभाएं.

चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि पर्यवेक्षकों के रूप में निर्वाचन आयोग की ओर से काम करना अधिकारियों का एक संवैधानिक दायित्व है. उन्होंने कहा कि अधिकारियों को यह बात हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए कि वे जमीनी स्तर पर निर्वाचन आयोग का चेहरा हैं और उन्हें यह भी ध्यान रखना चाहिए कि बिहार विधानसभा चुनाव पर दुनियाभर की नजर है.