Home देश Live News - हाथरस केस: FSL टेस्ट के लिए 11 दिन बाद...

Live News – हाथरस केस: FSL टेस्ट के लिए 11 दिन बाद लिए गए सैंपल, नहीं हो सकती रेप की पुष्टि- CMO

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras Gangrape Case) जिले में बीते दिनों कथित गैंगरेप और दरिंदगी से 19 साल की लड़की की मौत के मामले में देशभर में आक्रोश है. हालांकि, यूपी पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गैंगरेप की बात से इनकार कर रही है. 14 सितंबर को हुई वारदात के बाद पीड़िता को दो हफ्ते के लिए अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में एडमिट कराया गया था. यहां के चीफ मेडिकल ऑफिसर (CMO) का कहना है एफएसएल रिपोर्ट जिसके आधार पर यूपी पुलिस लड़की के साथ गैंगरेप नहीं होने का दावा कर रही है, उसके सैंपल वारदात के 11 दिन बाद लिए गए थे. ऐसे में इस रिपोर्ट की कोई वैल्यू नहीं है.

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के सीएमओ डॉक्टर अजीम मलिक ने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ से बातचीत में ये बयान दिया. उन्होंने कहा- ‘वारदात के 11 दिन बाद सैंपल लिए गए थे. जबकि सरकारी दिशा-निर्देशों में साफ कहा गया है कि ऐसे अपराध के 96 घंटे बाद तक फोरेंसिक सबूत पाए जा सकते हैं. इससे देरी होने पर रेप या गैंगरेप की पुष्टि नहीं हो सकती है.

हाथरस केस: पीएम मोदी और सीएम योगी को बदनाम करने में एमनेस्टी इंटरनेशनल और कुछ देशों का नाम आया सामने

जानकारी के मुताबिक, हाथरस के बूलघड़ी गांव में 14 सितंबर को कथित तौर पर उच्च जाति के 4 लड़के जंगल में घास काट रही लड़की को मुंह दबाकर दुप्पटे के सहारे पीछे से खींच ले गए. कुछ घंटों बाद लड़की बाजरे के खेत में अर्धनग्न हालत में मिली. उसकी जीभ कटा हुआ था और रीढ़ की हड्डी टूटी थी. उसे एएमयू अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 22 सितंबर को जब उसे होश आया, तो उसने इशारों में अपने साथ हुए दरिंदगी की जानकारी परिवार को दी.

मजिस्ट्रेट के सामने बयान दर्ज होने के बाद पुलिस ने रेप की धाराओं को एफआईआर में जोड़ा. घटना के 11 दिन बाद 25 सितंबर को पीड़िता के सैंपल एफएसएल जांच के लिए भेजे गए थे. इसी रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने दावा किया है कि लड़की के साथ रेप नहीं हुआ है. बीते मंगलवार की सुबह लगभग चार बजे पीड़िता ने दम तोड़ दिया था.

पुलिस का दावा- मारपीट से हुई मौत
एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा था, ‘फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी रिपोर्ट में लड़की के शरीर में कोई स्पर्म नहीं मिला है. रिपोर्ट में कहा गया है कि लड़की की मौत मारपीट के कारण हुई है. अधिकारियों के बयान के बाद भी मीडिया गलत जानकारी प्रसारित कर रही है.’

हाथरस केस: पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए दिल्ली में कैंडल मार्च, सड़कों पर उतरे हजारों लोग

आरोपी परिवार से 23 साल पुरानी दुश्मनी
वहीं, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स पर भरोसा करें, तो पीड़िता के परिजन और एक आरोपी परिवार की करीब 23 साल पुरानी दुश्‍मनी है. पीड़‍िता के पिता ने एक आरोपी संदीप के पिता पर तब एससी/एसटी ऐक्‍ट और मारपीट की एफआईआर लिखाई थी. ठाकुर बहुल बूलघड़ी गांव में वाल्‍मीकी समाज के लोग गिनती के हैं. गांव में ठाकुर समाज के दो गुट बताए जा रहे हैं. एक गुट के साथ वाल्‍मीकी समाज के लोग हैं. दूसरा गुट युवती की मौत के आरोपी संदीप, रामू, लवकुश और रवि पक्ष का है.

Most Popular