Live News – ड्रग रैकेट का सरगना है जमशाद, जेल से चलाता था धंधा; बॉलीवुड एक्टर्स को देता है सप्लाई

मुंबई. बॉलीवुड में ड्रग्स रैकेट की तह तक जाने के लिए नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ड्रग्स सिंडिकेट के पुराने और माहिर खिलाड़ियों की कुंडली खंगालने लगी है. बॉलीवुड एक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस (Sushant Singh Rajput Suicide Case) की जांच में ड्रग्स एंगल सामने आया था. इसके बाद से एनसीबी (Narcotics Control Bureau) ने बॉलीवुड में ड्रग्स नेटवर्क को केंद्र में रखकर जांच तेज कर दी. एनसीबी ने 26 सितंबर को एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone), श्रद्धा कपूर (Shraddha Kapoor) और सारा अली खान (Sara Ali Khan) के बयान दर्ज किए.

बॉलीवुड में टैलेंट मैनेजर जया शाह, राजपूत की पूर्व प्रबंधक श्रुति मोदी, निर्माता मधु मंटेना, फैशन डिजाइनर सिमोन खंभाटा, एक्ट्रेस रकुल प्रीत सिंह और एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण की मैनेजर करिश्मा प्रकाश के बयान एनसीबी दर्ज कर चुकी है. एजेंसी इस मामले में अब तक कम से कम 18 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है.

बॉलीवुड ड्रग्स एंगल की तफ्तीश के कई सिरे है. एक सिरा है, ड्रग्स की दुनिया के सबसे स्टाइलिश और करोड़पति ड्रग्स कारोबारी जमशाद अली मलिक (Jamshad Ali Malik) का. जमशाद फिलहाल मुंबई की जेल में बन्द है, एनसीबी ने उसे साल 2019 में गिरफ्तार किया था. इसके अलावा NCB के रडार ड्रग्स की दुनिया के दो बड़े फाइनेंसर भी है. मुंबई का हिमांशु भाई, अहमदाबाद का राजू भाई और दिल्ली बेस्ड संजय गुप्ता एजेंसी के रडार पर हैं.

ये तीनों भी जमशाद के बेहद करीबी हैं, पर NCB को लगातार चकमा देते आ रहे हैं. जमशाद बॉलीवुड में कदम रखने वाली मॉडल्स, TV एक्ट्रेस और बॉलीवुड सेलीब्रेट से भी जुड़ा था और उनकी ड्रग्स की डिमांड को पूरा करता था. कहा जाता है कि यह बेहद रंगीन मिजाज किरदार है.


केरल के आतंक की नर्सरी से जुड़ा जमशाद

NCB के सूत्र बताते हैं कि जमशाद अली मूल रूप से केरल के कासरगुड़ का रहने वाला है. यही वो इलाका है, जो आतंकवाद की नर्सरी माना जाता है और यहां अपराध की अपनी एक अलग दुनिया है. यह इलाका देश भर की एजेंसियों के निशाने पर है.

जमशाद चरस और कोकीन की खरीद-फोरख्त का महाराष्ट्र और देश का एक बड़ा कारोबारी है. जमशाद कतर में बैठे ड्रग्स माफियाओं के जरिए भारत मे अपना धंधा ऑपरेट करता था, जिसमें कोकीन और चरस की सबसे ज्यादा खरीद-फरोख्त शामिल है.

जेल से ही ड्रग्स के कॉल सेंटर ऑपरेट कर रहे हैं

एजेंसी के अधिकारियों के मुताबिक, कतर की जेलों में बंद ड्रग्स माफिया जेल से ही ड्रग्स के कॉल सेंटर ऑपरेट कर रहे हैं. वाई-फाई सुविधाओं से लैस महंगे फोन के जरिए जमशाद अली कतर की जेलों से ड्रग्स की खरीद-फरोख्त से सीधे तौर पर जुड़ा था. जेलों से ही भारत में ड्रग्स की खरीद-फरोख्त का धंधा फल फूल रहा है और ड्रग्स कारोबारी करोड़पति बनते जा रहे हैं.

बता दें कि जमशाद साल 2013-14 में इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़कर केरल से कतर में ट्रांसपोर्ट का बिजनेस करने गया था, तब उसने वहां चरस का सेवन किया और पकड़ा गया. उसे 6 महीने की जेल की सजा मिली. जेल में ही मोहसिन नाम के ड्रग्स माफिया के सहारे जमशाद इंडिया में ड्रग्स का धंधा संभालने लगा.

संजय गुप्ता भगोड़ा है. NCB सूत्रों ने अनुसार, दिल्ली में जमशाद के ड्रग्स का सारा काम संजय गुप्ता संभालते हैं और दिल्ली से मलेशिया और सिंगापुर ड्रग्स डीलिंग से जुड़ा है. बॉलीवुड ड्रग्स कनेक्शन की जांच में यह तमाम किरदार भी काफी मायने रखते हैं.