Home देश Live News - ट्रैक्टर रैली में राहुल गांधी का ऐलान- हमारी सरकार...

Live News – ट्रैक्टर रैली में राहुल गांधी का ऐलान- हमारी सरकार आई तो तीनों कृ​षि कानून को रद्द कर देंगे

नई दिल्ली. कांग्रेस नेता राहुल गांधी केंद्र (Congress Leader Rahul Gandhi) द्वारा लागू नये कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ मोगा (Moga) में रविवार को आयोजित ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) का नेतृत्व कर रहे हैं. राहुल ने ट्रैक्टर रैली से पहले मोगा के बदनी कलां में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि अगर हम सत्ता में वापस आए तो तीनों कृषि कानूनों को रद्द कर देंगे. राहुल ने कहा कि मामला पैसों का है और आपकी जमीन का है. पहला मामला मैंने भट्टा पारसौल में देखा. उन्होंने कहा कि हमने जमीन के लिए कानून बनाया लेकिन बीजेपी ने आते ही उसे रद्द कर दिया.

पूर्व कांग्रेस प्रमुख ने कहा, पंजाब (Punjab) और हरियाणा (Haryana) के किसान हिंदुस्तान को अनाज देते हैं. मोदी सरकार का लक्ष्य एमएसपी को खत्म करना है. कांग्रेस हमेशा किसानों के साथ खड़ी है और हमेश खड़ी रहेगी और हम एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे. राहुल गांधी ने कहा कि पंजाब के किसान जिस तरह से आंदोलन कर रहे हैं उसे इसी तरह से करते रहिए. कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से आपके साथ खड़ी है. हमारी सरकार आई तो हम तीनों कानून को पूरी तरह से खत्म कर देंगे.

ये भी पढ़ें- BJP-JDU में सीट शेयरिंग पर बन गई सहमति, इस फॉर्मूले पर लड़ेंगे चुनाव

तीन दिन चलेगी ट्रैक्टर रैलीराहुल गांधी रविवार दोपहर मोगा पहुंचकर आज से शुरू हो रही तीन दिवसीय ट्रैक्टर रैलियों का नेतृत्व कर रहे हैं. राहुल गांधी के साथ पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, कांग्रेस महासचिव एवं पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत, पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़, राज्य के वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल और अन्य नेता भी रैली में शामिल हो रहे हैं.

राज्य के पूर्व मंत्री और विधायक नवजोत सिंह सिद्धू भी मोगा में हैं, जो पिछले कुछ समय से कांग्रेस की सभी गतविधियों से दूरी बनाकर चल रहे थे.

50 किलोमीटर से ज्यादा की दूरी तय करेगी रैली
‘खेती बचाओ यात्रा’ के नाम से निकाली जा रही ट्रैक्टर रैलियां करीब 50 किलोमीटर से अधिक दूरी तय करेगी और विभिन्न जिलों तथा निर्वाचन क्षेत्रों से गुजरेंगी.

ये भी पढ़ें- क्या करेंसी नोटों से भी है कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा? जानिए RBI ने क्या कहा

उल्लेखनीय है कि नये कृषि कानूनों का पंजाब के किसान विरोध कर रहे हैं. किसानों को आशंका है कि केंद्र द्वारा किए जा रहे कृषि सुधार से न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को समाप्त करने का रास्ता साफ होगा और वे बड़ी कंपनियों की ‘दया’ पर आश्रित रह जाएंगे. हालांकि, सरकार का कहना है कि एमएसपी प्रणाली में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा.

गौरतलब है कि संसद ने हाल में तीन विधेयकों- ‘कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक-2020’, ‘किसान (सशक्तीकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन’ अनुबंध एवं कृषि सेवाएं विधेयक 2020 और ‘आवश्यक वस्तु संशोधन विधेयक-2020’ को पारित किया.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंजूरी के बाद तीनों कानून 27 सितंबर से प्रभावी हो गए. (भाषा के इनपुट सहित)

Most Popular