Home झारखंड Jharkhand News- बैठक:4 नवंबर काे रांची में आयोजित हाेगी जलापूर्ति याेजना की...

Jharkhand News- बैठक:4 नवंबर काे रांची में आयोजित हाेगी जलापूर्ति याेजना की समीक्षा बैठक, जलापूर्ति याेजना में देरी काे ले श्रीराम ईपीसी कंपनी पर गिर सकती है गाज

फाइल फोटो

जलापूर्ति याेजना में विलंब काे लेकर श्रीराम ईपीसी लि. कंपनी पर गाज गिर सकती है। जिला पेयजल एवं स्वच्छता विभाग का कहना है कि 4 नवंबर काे रांची में श्रीराम ईपीसी कंपनी द्वारा क्रियान्वित सभी जलापूर्ति याेजनाओं की समीक्षा की जाएगी। पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के मंत्री मिथिलेश ठाकुर स्वयं कंपनी द्वारा क्रियान्वित सभी जलापूर्ति याेजनाओं की समीक्षा करेंगे। अगर कंपनी का काम संताेषजनक नहीं पाए जाने की स्थिति में कंपनी काे अमान्य (डिबार) भी घाेषित किया जा सकता है।

जिला पेयजल एवं स्वच्छता विभाग धनबाद प्रमंडल-2 के कार्यपालक अभियंता भीखराम भगत का कहना है कि श्रीराम ईपीसी कंपनी की ओर से जिले में बलियापुर मेगा ग्रामीण जलापूर्ति याेजना, टुंडी और काेल्हर जलापूर्ति याेजना सहित चार जलापूर्ति याेजनाओं का काम किया गया है। इसमें ज्यादातर जलापूर्ति याेजनाओं का काम संताेषजनक नहीं पाया गया है। रांची मुख्यालय ने पेयजल एवं स्वच्छता विभाग धनबाद से जवाब तलब किया था, जिसकी रिपोर्ट मुख्यालय काे भेज दी गई है। मुख्यालय का स्पष्ट निर्देश है कि जाे भी कंपनी काम में लापरवाही और समय पर काम पूरा नहीं करता है ताे डिबार करने की कार्रवाई सुनिश्चित करें।

वे दाे कारण जिनसे कंपनी हो सकती है डिबार घाेषित

याेजना के क्रियान्वयन में विलंब

अगर कंपनी काे डिबार घाेषित करने की कार्रवाई हाेती है ताे इसका बड़ा कारण काम का विलंब है। टुंडी और काेल्हर जलापूर्ति याेजना का काम पिछले साल ही पूरा हाेना था। लेकिन अबतक काम पूरा नहीं हुआ है। अबतक बहुत जगह पर पाइप बिछाने और कई जलमीनार का काम भी पूरा नहीं हुआ है। कई जगहाें पर बल्भ नहीं लगा है। विभाग का मानना है कि कंपनी की लापरवाही के कारण आम जनता काे अब भी पेयजल संकट से जूझना पड़ रहा है।

लक्ष्य के अनुसार हाउस-हाेल्ड कनेक्शन नहीं किया गया

डीडब्यूएंडएसडी धनबाद प्रमंडल-2 के ईई का कहना है कि कंपनी के विरुद्ध कार्रवाई का दूसरा बड़ा कारण कंपनी द्वारा किसी भी याेजना का लक्ष्य के अनुरुप हाउस हाेल्ड कनेक्शन नहीं किया जाना है। जिसके कारण बड़ी आबादी काे याेजना का सही से लाभ नहीं मिल पा रहा है। बलियाुपर ग्रामीण जलापूर्ति याेजना के लिए 16 हजार में 8 हजार हाउस कनेक्शन दिया गया। टुंडी में 10 हजार तथा काेल्हर में 7 हजार में हाउस कनेक्शन का लक्ष्य था वह भी सही से नहीं हुआ है।

Most Popular