Godda to Jaipur : गर्भवती पत्नी को परीक्षा दिलाने गोड्डा से 1200 किमी स्कूटर चला ग्वालियर पहुंचा

Godda to Jaipur : गर्भवती पत्नी को परीक्षा दिलाने गोड्डा से 1200 किमी स्कूटर चला ग्वालियर पहुंचा

गोड्डा के रहने वाले धनंजय कुमार अपनी गर्भवती पत्नी को स्कूटर पर बैठाकर 1,200 किलोमीटर का सफर तय कर डीएड (डिप्लोमा इन एजुकेशन) की परीक्षा दिलाने ग्वालियर आए। 

जब इस दंपति का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ तो ग्वालियर जिला प्रशासन ने तुरंत आर्थिक सहायता देते हुए इस आदिवासी दंपति को सुरक्षित वापस गोड्डा पहुंचाने की पेशकश की।

गोड्डा के गंटा टोला के निवासी धनंजय ने बताया, कोरोना के कारण बसें और ट्रेनें बंद थीं। ऊपर से पत्नी सोनी को छह महीने का गर्भ था, लेकिन उन्होंने स्कूटर से ही यात्रा करने की ठान ली। जेवर गिरवी रखकर दस हजार रुपये का इंतजाम किया और दो दिन की यात्रा करके ग्वालियर आ गए। उन्होंने बताया कि रास्ते में गड्ढे में स्कूटर गया तो पत्नी को तकलीफ भी हुई लेकिन धीरे-धीरे स्कूटर चलाकर मुजफ्फरपुर व लखनऊ में रात बिताते हुए 30 अगस्त को वे ग्वालियर आ गए। गोड्डा से 28 अगस्त को तड़के उन्होंने सफर शुरू किया था। धनंजय ने बताया कि ग्वालियर के दीनदयाल नगर में उन्होंने 15 दिन के लिए 1500 रुपये में किराए पर एक कमरा लिया है। यहां पद्मा गर्ल्स स्कूल में परीक्षा केन्द्र है और पत्नी की परीक्षा 11 सितंबर तक चलेगी। उन्होंने बताया कि वह स्वयं आठवीं पास हैं। ग्वालियर कलेक्टर ने महिला सशक्तिकरण अधिकारी शालीन शर्मा को तुरंत इस दंपति के पास भेजा। शर्मा ने बताया कि फिलहाल रेडक्रास की ओर से दंपति को पांच हजार रुपए दिए गए हैं। इसके साथ वापस सुरक्षित उनके गांव भेजने का प्रस्ताव भी दिया है। इसके अलावा उनके भोजन और जहां वे रुके हुए हैं, उसकी धनराशि भी प्रशासन देगा।