HomeबिहारBihar news- कोरोना संकट पर सीएम नीतीश कुमार की उच्च स्तरीय बैठक...

Bihar news- कोरोना संकट पर सीएम नीतीश कुमार की उच्च स्तरीय बैठक में लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय

हाइलाइट्स:

  • मंगलवार को क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में ले सकते हैं लॉकडाउन का फैसला
  • पुलिस और प्रशासन को कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कराने का निर्देश
  • अस्पताल और डॉक्टरों की सुरक्षा बढ़ाने का निर्देश
  • अनावश्यक घर से निकलने वाले लोगों पर कड़ी नजर रखने का निर्देश
  • पटना।बिहार में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार कोई बड़ा फैसला ले सकती है। बता दें कि सोमवार की दोपहर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद पटना की सड़क पर निकल कर स्थिति का अवलोकन किया। हालांकि इसके पहले भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पटना की सड़क पर पटना की स्थिति जानने के लिए निकले थे। लेकिन राज्य सरकार द्वारा उठाए गए तमाम कदम के बावजूद बिहार में संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है।

    मंगलवार को क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ फिर बैठक में हो सकता है लॉकडाउन पर फैसलासोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा पटना का निरीक्षण करने के बाद बुलाए गए उच्च स्तरीय बैठक में बिहार के दोनों उपमुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव समेत बिहार सरकार के कई विभाग के अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़े हुए थे। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि कोरोना संकट को देखते हुए नीतीश कुमार आज की बैठक में बिहार में 14 दिन का लॉकडाउन लगाने का फैसला ले सकते हैं।

    लेकिन सोमवार की बैठक में मुख्यमंत्री ने पुलिस प्रशासन के अधिकारी के साथ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को कई निर्देश दिए। बताया गया है कि मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बार फिर क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ फिर बैठक करेंगे। इस बैठक में भी सभी जिलों के डीएम, एसपी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी, डॉक्टर के साथ कई विभाग के अधिकारी भी शामिल होंगे। सूत्र से मिली जानकारी के अनुसार बिहार में अनियंत्रित हो रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए नीतीश कुमार 14 दिन के लिए लॉकडाउन की घोषणा कर सकते हैं।

    नीतीश कुमार ने उच्च स्तरीय बैठक में दिए कई अहम निर्देशकोरोना संकट को लेकर सोमवार को हुए बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पुलिस और प्रशासन को कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कराने का निर्देश दिया है। इसके अलावा अनावश्यक घर से निकलने वाले लोगों पर नजर रखने के साथ उनके द्वारा कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन किये जाने पर कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि अनुमंडल स्तर तक कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के इलाज की व्यवस्था हो। मुख्यमंत्री ने खास तौर पर कहा है कि कोरोना से संक्रमित व्यक्ति के इलाज में कोई कोताही नही होना चाहिए और अस्पताल में जान जोखिम में डालकर जो डॉक्टर काम कर रहे है उनकी और अस्पताल की सुरक्षा पर ज्यादा ध्यान दिया जाए। कल नीतीश कुमार क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ फिर बैठक करेंगे।

    IMA ने भी की है बिहार में 15 दिन के लॉकडाउन की मांगबता दें कि डॉक्टरों के संगठन IMA ने बिहार में 15 दिन के लॉकडाउन की मांग दोहरायी है। डॉक्टरों के संगठन का कहना है कि अगर लॉक डाउन नहीं किया गया तो कोरोना के भयावह रूप को रोक पाना संभव नहीं होगा। IMA अध्यक्ष डॉ. सहजानंद प्रसाद के अनुसार उन्होंने तो 15 दिन पहले ही देश में लॉकडाउन की मांग की थी लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया गया और आज नतिजा सबके सामने है। IGIMS के डॉक्टरों का भी कहना है कि बिहार में कम से कम 15 दिन के लिए लॉकडाउन लगाने की जरूरत है क्योंकि ऐसा करने से ही कोरोना के चेन को तोड़ा जा सकता है।

    कोरोना से लड़ाई में मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना फंड का इस्तेमालबिहार सरकार ने निर्णय लिया है कि मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना के मद से कुर्ला से लड़ाई के लिए आवश्यक राशि का प्रावधान किया जाए। इसके लिए मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना द्वारा राशि को स्वास्थ्य विभाग में गठित कोरोना उन्मूलन कोष में जमा किया जाएगा। इसके साथ ही मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना के तहत कोरोना संक्रमण की रोकथाम और इलाज के लिए दो करोड़ रुपए की राशि प्रत्येक विधानसभा सदस्य और विधान पार्षद के वित्तीय वर्ष 2021 22 की अनुमानित राशि से योजना और विकास विभाग द्वारा स्वास्थ्य विभाग बिहार को कोरोना उन्मूलन कोष में उपलब्ध कराया जाएगा। मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना के द्वारा उपलब्ध कराई गई राशि का स्वास्थ्य विभाग द्वारा पूरे राज्य में किसी भी क्षेत्र के लिए कोरोना संक्रमण से संबंध में नियम के अनुसार किसी भी प्रकार का खर्च किया जा सकेगा।

    Most Popular