Home बिहार Bihar News- कोरोना निगेटिव बता प्रचार को उतरे कुम्हरार MLA अरुण सिन्हा...

Bihar News- कोरोना निगेटिव बता प्रचार को उतरे कुम्हरार MLA अरुण सिन्हा की रिपोर्ट अब भी पॉजिटिव

भाजपा के कुम्हरार विधायक अरुण कुमार सिन्हा।

राजधानी की कुम्हरार सीट से भारतीय जनता पार्टी के विधायक और प्रत्याशी अरुण कुमार सिन्हा कोरोना निगेटिव हुए बिना ही प्रचार में लगे हैं। प्रधानमंत्री की रैली के एक दिन पहले सैंपल लेने पर उनकी रिपोर्ट 28 अक्टूबर को पॉजिटिव आई थी। 30 अक्टूबर को खुद को निगेटिव घोषित करते हुए प्रचार के अंतिम समय का उपयोग करने के लिए वह निकल गए। अंतिम दिन भी घूमते रहे। जबकि, दैनिक भास्कर डिजिटल की खबर पर सक्रिए हुए स्वास्थ्य विभाग ने 31 अक्टूबर को उनका रैपिड एंटीजन टेस्ट किया तो कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इस रिपोर्ट पर शक जाहिर करते हुए उन्होंने RT-PCR जांच करवा ली और रिपोर्ट तक प्रचार में व्यवधान नहीं खड़ी करने की अपील की। रिपोर्ट 1 नवंबर की शाम में जब तक आएगी, तब तक कुम्हरार समेत दूसरे दौर की 94 सीटों पर प्रचार का समय खत्म हो जाएगा।

भास्कर की खबर के बाद स्वास्थ्य विभाग जागा, मगर आधाकोरोना को लेकर नेताओं की लापरवाही पर दैनिक भास्कर की खबर पर स्वास्थ्य विभाग जागा तो, मगर आधा। अरुण कुमार सिन्हा के महज दो दिन में कोरोना पॉजिटिव से निगेटिव होने की खबर के बाद हरकत में आई सिविल सर्जन की टीम ने 31 अक्टूबर को विधायक जी के आवास पर जाकर उनका रैपिड एंटीजन टेस्ट किया। इसकी रिपोर्ट तत्काल मिलती है। रिपोर्ट में वह पॉजिटिव मिले हैं। बाबजूद इसके अरुण कुमार सिन्हा अब भी प्रचार कर रहे हैं। एंटीजन टेस्ट में पॉजिटिव होने के बावजूद सिन्हा प्रचार कर रहे हैं और सिविल सर्जन की टीम ने उनके इस दावे पर उन्हें प्रचार करने की छूट दे दी कि एंटीजन टेस्ट गलत हो सकता है, इसलिए RT-PCR टेस्ट की रिपोर्ट आने तक उन्हें प्रचार करने दिया जाए। RT-PCR की रिपोर्ट आने में 24 से 48 घंटे का वक्त लगता है, तब तक वह प्रचार कर सकते हैं। सिन्हा के एंटीजन टेस्ट रिपोर्ट को अब तक सार्वजनिक नहीं किया गया है और ना ही उन्हें प्रचार से रोका गया है।

भास्कर ने किया था खुलासा नामांकन के वक्त भी थे बुखार मेंभास्कर ने अपनी खबर में पहले ही खुलासा किया था कि 14 अक्टूबर को नामांकन करने पहुंचे अरुण कुमार सिन्हा को बुखार है और उनके कोरोना पॉजिटिव होने की भी आशंका है, लेकिन तब से विधायक लगातार इनकार कर रहे थे। नामांकन के दिन वह छज्जूबाग से पैदल कलेक्ट्रेट गए, इसलिए संभव है कि कोरोना तब तक नहीं प्रभावी हुआ हो। नामांकन के बाद वह लगातार जनसंपर्क कर रहे हैं। सिर्फ 28 और 29 को वह शांत रहे। 30 अक्टूबर से वह फिर सक्रिय हैं।

भाजपा कार्यालय में दूसरी बार हुआ है कोरोना विस्फोटचुनावी दौर में भाजपा कार्यालय में जमकर कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उडाई गई हैं। नतीजा अब दिख रहा है। भाजपा कार्यालय में प्रबंधन से लेकर वार रूम के काम में लगे नेता कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। प्रचार के आखिरी वक्त में कार्यालय लगभग खाली हो चुका है। भाजपा कार्यालय में प्रबंधन के कार्य में लगे जिन नेताओं के पॉजिटिव होने या बुखार से परेशान होने की खबर आ रही है, वो हैं…रत्नेश कुशवाहा, संजय गुप्ता, ब्रजेश रमण, अर्चना राय भट्‌ट, देवेश कुमार, हिमांशु मेहता। इनके अलावा दो कर्मचारी और दो वैन ड्राइवर भी इनमें शामिल हैं। प्रचार और घोषणापत्र समिति के बड़े नेताओं के गायब होने की वजह भी कोरोना ही है।

कोरोना पॉजिटिव महिला नेत्री पहुंचीं भाजपा कार्यालय, मचा हड़कंपभाजपा की एक महिला नेत्री कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद 31 अक्टूबर को भाजपा कार्यालय पहुंच गईं। पहले से कोरोना से बेहाल कार्यालय में उनकी इंट्री के साथ ही हड़कंप मच गया। कार्यालय के वार रूम में मौजूद कुछ नेताओं ने इस पर सीधी आपत्ति कर दी, जिसपर महिला नेत्री को संगठन मंत्री नागेन्द्र नाथ ने फटकार लगाई। महिला नेत्री पहले तो अपने पॉजिटिव होने की खबर को ही झुठलाती रहीं, लेकिन जब बाकी नेताओं ने उनकी रिपोर्ट दिखानी शुरू की0 तो वो कार्यालय से बाहर निकलीं।

डीएम को नहीं सिन्हा के पॉजिटिव होने की जानकारी, बोले- पता करते हैं, लेंगे एक्शन

जिला निर्वाचन पदाधिकारी डीएम कुमार रवि को भास्कर ने अरुण सिन्हा के पॉजिटिव होने की जानकारी दी तो वह चौंक गए। उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि वह रिटर्निंग ऑफिसर से तत्काल इसकी जांच करा रहे हैं, अगर ऐसा हुआ तो उन्हें प्रचार से रोका जाएगा और विधि-सम्मत कार्रवाई की जाएगी।

Most Popular