Home बिहार Bihar Live News - Bihar Panchayat Chunav 2021: श्रेणीवार आरक्षण की...

Bihar Live News – Bihar Panchayat Chunav 2021: श्रेणीवार आरक्षण की लिस्‍ट जल्‍द होगी ऑनलाइन, जानिए राज्‍य निर्वाचन आयोग ने क्‍या कहा

बिहार में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव लड़ने के इच्‍छुक दावेदारों के लिए एक महत्‍वपूर्ण खबर है। राज्‍य निर्वाचन आयोग ने कहा है जल्‍द से जल्‍द मुखिया, सरपंच, वार्ड सदस्य, पंच पंचायत समिति के सदस्य और जिला पार्षदों के प्रत्याशियों को आरक्षित पदों की संख्या के बारे में पूरी जानकारी मिल सकेगी। राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव योगेंद्र राम ने सभी जिलों के जिला पंचायतीराज पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि पंचायत चुनाव के लिए पूर्व निर्धारित कोटिवार आरक्षण की इंट्री ऑनलाइन सुनिश्चित कराएं। साथ ही, शैडो जोन चिन्हित करें और उसकी भी जानकारी दें। आयोग की ओर से गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सभी जिलों के जिला पंचायती राज पदाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी और प्रखंड विकास पदाधिकारी के साथ बैठक की गई।

आयोग ने जिलों को निर्देश दिया है कि त्रिस्तरीय पंचायतों और ग्राम कचहरी के विभिन्न पदों के लिए होने वाले निर्वाचन में विभिन्न पदों को ऑनलाइन कर दिया जाए। राज्‍य निर्वाचन आयोग से पूर्व निर्धारित आरक्षित पदों की सूची को अभी तक जिला कार्यालयों और आयोग कार्यालयों में संरक्षित रखा गया है। सचिव ने साफ कहा कि पंचायत के पदों के आरक्षण को ऑनलाइन किया जाना अनिवार्य है। इसका उद्देश्‍य यह है कि प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी हो और प्रत्याशियों के नामांकन, नामांकन पत्रों की जांच, मतगणना और निर्वाचन प्रमाण पत्र और प्रपत्र 23 तैयार करने में कोई असुविधा न हो। 

शैडो जोन की पहचान बिहार पंचायत चुनाव कराने के लिए कम्युनिकेशन शैडो जोन वाले मतदान केंद्र की भी पहचान की जा रही है। इस बारे में राज्य निर्वाचन आयोग ने अररिया, पश्चिम चंपारण, बांका, किशनगंज, कैमूर, रोहतास, गया और जमुई के जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को निर्देश जारी किया है। बताया जा रहा है कि इन तमाम जिलों में कई ऐसे मतदान केंद्र हैं, जहां कम्युनिकेशन (संचार) की समस्या है। आयोग चाहता है कि चुनाव से पहले इसे दुरुस्त कर लिया जाए। सचिव ने कहा कि पंचायत चुनाव के सफल संचालन के लिए सभी मतदान केंद्रों से प्रखंड, जिला और राज्य स्तर पर संवाद स्थापित किया जाना आवश्यक है। इसके लिए संचार का माध्‍यम बेहतर होना चाहिए। लिहाजा शैडो मतदान केंद्रों की पहचान कर ली जाए, ताकि उन मतदान केंद्रों पर कम्युनिकेशन के लिए विशेष पंचायत के शैडो व्यवस्था की जा सके। 

Most Popular