HomeबिहारBihar Live News - सासाराम: अस्पताल में मरीज की मौत के बाद...

Bihar Live News – सासाराम: अस्पताल में मरीज की मौत के बाद हंगामा, जान बचाकर भागे डॉक्टर व कर्मचारी, गुस्साए परिजनों ने ऑक्सीजन कंसट्रेटर को फेंका

बिहार के सासाराम सदर अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में इलाज के दौरान एक मरीज की मौत हो जाने के बाद उसके परिजनों ने जमकर हंगामा किया। इसे लेकर ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर व कर्मी भाग निकले। लेकिन, जान बचाकर भाग रहे चिकित्सक केडी पूजन को लोगों ने पकड़ लिया। डॉक्टर को गाली देते हुए लोगों ने पिटाई भी की। उसके बाद हंगामा करने वाले आइसोलेशन वार्ड में घुस गए। गाली गलौज करते हुए चिकित्सकों को खोजने लगे। गुस्साए परिजनों ने वार्ड में  ऑक्सीजन कंसंट्रेटर को छत से नीचे फेंक दिया। इस घटना के बाद मौके पर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी पहुंच मामले की जांच की। पुलिस ने घटना को लेकर दो लोगों को हिरासत में लिया है।

मृतक के परिजन लापरवाही व चिकित्सकों पर इलाज में मनमानी करने का आरोप लगा रहे थे। हंगामा की सूचना पर सेंटर की सुरक्षा में तैनात जवान व मजिस्ट्रेट पहुंचे। गुस्साए परिजनों को शांत कराया। वरीय अधिकारियों को इसकी सूचना दी। सूचना पाकर अस्पताल में पहुंचे प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. केएन तिवारी ने लोगों को शांत कराया। वहीं, डॉ. अनवर अशरफ ने कहा कि हंगामा कर रहे लोगों द्वारा लाया गया व्यक्ति अस्पताल पहुंचने से पहले ही मर चुका था। जब हमलोगों ने कहा कि उनका मरीज जीवित नहीं है, तो वे लोग भड़क गए। इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे।

विरोध में अस्पताल मेंओपीडी ठप 
आइसोलेशन सेंटर में चिकित्सकों के साथ मारपीट और हंगामा की घटना पर विरोध जताते हुए चिकित्सकों ने सदर अस्पताल का ओपीडी का कार्य बहिष्कार कर दिया। ओपीडी में चिकित्सकों के इलाज नहीं करने से मरीजों को सरकारी अस्पताल से बिना इलाज कराए बैरंग वापस लौटना पड़ा। सेंटर में भर्ती मरीज के परिजनों को अब पास के आधार पर इंट्री मिलेगी।  चिकित्सकों के साथ हो रही मारपीट और सेंटर में हंगामा की घटना को देखते हुए पुलिस प्रशासन में सुरक्षा के लिहाज से  पुलिस प्रशासन इस व्यवस्था में जुट गई है। एसडीपीओ ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को पास की व्यवस्था लागू करने की नसीहत दी। 

हंगामा के बीच मरीजों का इलाज करना मुश्किल साबित हो रहा है। हमारे चिकित्सक व कर्मी इस मुश्किल दौर में भी मरीजों की सेवा में तत्पर हैं। फिर भी उनके साथ अनुचित व्यवहार किया जा रहा है। -डॉ.केएन तिवारी, प्रभारी सिविल सर्जन

Most Popular