HomeबिहारBihar Live News - वेबसाइट बनाकर कोरोना महामारी को मात देने के...

Bihar Live News – वेबसाइट बनाकर कोरोना महामारी को मात देने के सीखा रहे गुर, 80 से अधिक डॉक्टर लोगों को दे रहे फ्री में सलाह

कोरोना महामारी में एक तरफ जहां लोगों में निराशा है। वहीं इस दौरान में कुछ युवा अच्छा करने की सोच में लगे हैं। इसी का नतीजा है कि गया के रहने वाली डा. रितिका सिन्हा और उसके भाई अभिनीत कुमार ने कोरोना संक्रमित मरीज व संक्रमण से मुक्त हुये लोगों को चिकित्सीय सलाह के लिए एक वेबसाइट  बनायी। इस वेबसाइट के लिंक पर बस एक क्लिक कर मरीज अपना व्यक्तिगत जानकारी एक फार्म में भरते हैं। इसके बाद डॉक्टर उनके मोबाइल पर कॉल कर उनकी समस्या का समाधान कर रहे हैं।

देश के 80 से अधिक डॉक्टर लोगों को नि:शुल्क दे रहे चिकित्सीय परामर्श 
www. rockethealth.app वेबसाइट के माध्यम से जुड़ने वाले लोगों को देश भर के करीब 80 से अधिक चिकित्सकों की टीम लगातार सलाह दे रही है। धीरे-धीरे इस वेबसाइट पर अधिक से अधिक चिकित्सक जुड़ रहे है और मरीजों को परामर्श दे रहे हैं। डा. रितिका सिन्हा बताती है कि प्रतिदिन करीब दो सौ से अधिक लोग अलग- अलग डॉक्टरों से चिकित्सीय परामर्श ले रहे हैं। 

होम आइसोलेट लोगों को चिकित्सीय सलाह मिले इसलिए शुरू की वेबसाइट
वेबसाइट को बनाने वाली डा. रितिका सिन्हा जो एमबीबीएस करने के बाद पीजी की परीक्षा की तैयारी कर रही है। वहीं उसके भाई अभिनीत कुमार जो एमबीए का छात्र है। बताते है कि उनलोगों का बस एक ही मकसद था कि इस कोरोना महामारी में जब संक्रमण तेजी से फैल रहा है। लोग घर से नहीं निकल रहे हैं। ऐसे में लोगों को घर बैठे चिकित्सीय सलाह कैसे मुहैया हो इसके लिए यह शुरूआत की। 

देश के कई राज्यों के मरीज वेबसाइट से जुड़ ले रहे सलाह
अभिनीत बताते है कि इस पहल के बाद ना सिर्फ बिहार के बल्कि मुम्बई, गोवा, दिल्ली, हरियाणा, केरल, कश्मीर सहित कई राज्यों से लोग चिकित्सीय सलाह के लिए इस वेबसाइट से जुड़ रहे हैं और उन्हे सलाह दी जा रही है। 

नाकारत्मक सोच से डरे हैं लोग
इन लोगों ने बताया कि कॉल के दौरान कई लोगों को देखा गया है कि वह बेवजह डरे हुये हैं। वह अपने आसपास या रिश्तेदारों के हुयी मौत की खबर से अधिक घबराये हैं। ऐसे लोगों को मनोचिकित्सीय सलाह भी चिकित्सकों द्वारा दी जा रही है।

वेबसाइट से सुबह 6बजे से रात्रि 12 बजे तक दे रहे मरीजों को सलाह
दोनों बताते है कि वेबसाइट के माध्यम से लोगों को चिकित्सीय सलाह सुबह 6 बजे से रात्रि 12 बजे तक रखा गया है। लेकिन कुछ लोग रात्रि 2 बजे भी कॉल कर स्वास्थ्य संबंधित परामर्श मांगते हैं।  

डॉक्टरों को जोड़ने के लिए सोशल मीडिया का लिया सहारा
डा. रितिका सिन्हा बताती है कि वह खुद डॉक्टर हैं। उसके  साथ पढे अन्य साथी भी इस मुहिम में जुड़कर सोशल मीडिया पर डॉक्टरों से इसमें जुड़ने की अपील की। जिसका नतीजा है कि देश के कई राज्यों के पूणे, उड़ीसा, कर्नाटक, अहमदाबाद, बिहार के अलावे अन्य राज्यों के डॉक्टर जुड़ें। जो भी डॉक्टर इस मुहिम में जुड़े उनका रजिस्ट्रेशन नम्बर व अन्य जरूरी कागजात जांच करने के बाद ही इस मुहिम में जोड़ा गया।

Most Popular