सुशांत सिंह केस: भायखला जेल में कैसी बीती रिया चक्रवर्ती की पहली रात, जानें पूरी डिटेल

film actress rhea chakraborty  file pic

सुशांत सिंह राजपूत मौत केस से जुड़े ड्रग्स कनेक्शन में रिया चक्रवर्ती 22 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में हैं और रिया चक्रवर्ती मुंबई की भायखला जेल में बंद हैं। बुधवार को सुशांत सिंह राजपूत केस में मुख्य आरोपी रिया चक्रवर्ती की मुंबई की भायखला जेल में पहली रात कटी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रिया को जहां रखा गया है, शीना बोरा हत्याकांड मामले में आरोपी इंद्राणी मुखर्जी भी उसी जेल में हैं। बता दें कि आज रिया समेत गिरफ्तार सभी आरोपियों (ड्रग तस्कर अनुज केशवानी को छोड़कर) की जमानत याचिका पर सुनवाई होगी। 

आजतक की रिपोर्ट के मुताबिक, रिया चक्रवर्ती के सेल के ठीक बगल वाले बैरक में शीना बोरा हत्याकांड मामले में आरोपी इंद्राणी मुखर्जी भी है। रिया को सामान्य बैरक में नहीं, बल्कि अलग सेल में रखा गया है। जेल प्रशासन की ओर से रिया की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है। 

कैसी कटी जेल की पहली रात
रिया चक्रवर्ती दोपहर बाद जेल भेजा गया। मुंबई की भायखला जेल जब रिया चक्रवर्ती आईं तो उन्हें सामान्य बैरक में नहीं, बल्कि अलग सेल में जगह दी गई। जेल सूत्रों के मुताबिक, रिया को रात का खाना दिया गया, जिसमें दो रोटी, चावल, दाल और सब्जी था।

एनसीबी लॉकअप में भी पहली रात
गौरतलब है कि एनसीबी द्वाा गिरफ्तार किए जाने और कोर्ट में पेश करने के बाद मुंबई के एक स्थानीय मजिस्ट्रेट ने रिया को मंगलवार देर रात 22 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। क्योंकि जेल मैनुअल के मुताबिक, रात में किसी कैदी की एंट्री नहीं होती, इसलिए रिया को मंगलवार की रात एनसीबी के लॉकअप में ही रखा गया। अगले दिन बुधवार को जेल भेजा गया। 

जमानत पर आज सुनवाई
अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े मादक पदार्थ संबंधी मामले में गिरफ्तार अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती ने बुधवार को मुंबई की एक सत्र अदालत में जमानत याचिका दायर की, जिस पर आज यानी बृहस्पतिवार को सुनवाई होगी। मादक पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) ने रिया को गिरफ्तार किया था। मंगलवार को मजिस्ट्रेट अदालत ने उन्हें जमानत देने से इनकार कर दिया था। उसके बाद रिया ने जमानत के लिए दूसरी बार प्रयास किया है।

यह याचिका उनके वकील सतीश मानेशिंदे द्वारा दायर की गयी है और इसमें 28 वर्षीय अभिनेत्री ने स्वयं के ‘निर्दोष’ होने का दावा किया है। याचिका में कहा गया है कि उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है और मामले में उन्हें फंसाया गया है।