Homeझारखंडसाक्षी धोनी जब परेशान है तो सोचिए झारखण्ड के आम जनता का...

साक्षी धोनी जब परेशान है तो सोचिए झारखण्ड के आम जनता का हाल

अंतर्राष्‍ट्रीय क्रिकेटर, भारत के पूर्व कप्‍तान रांची के राजकुमार महेंद्र सिंह धोनी की पत्नी साक्षी ने झारखंड में हो रही बिजली कटौती पर गंभीर सवाल उठाए हैं। उन्‍होंने रांची में हो रही बिजली की आंख मिचौली को लेकर सोमवार को ट्विटर पर कड़ी प्रतिक्रिया दी। अपने ट्वीट में साक्षी ने लिखा- झारखंड के एक करदाता के रूप में मैं सिर्फ यह जानना चाहती हूं कि आखिर झारखंड में इतने वर्षों से बिजली संकट क्यों है? सवालिया लहजे में साक्षी सिंह ने आगे लिखा कि हम जिम्‍मेवारी के साथ यह सुनिश्चित करके अपनी भूमिका निभा रहे हैं कि हम ऊर्जा की बचत करें! साक्षी की ओर से बिजली की खराब आपूर्ति पर सवाल उठाए जाने के बाद उनके फॉलोअर्स ने भी कड़ी प्रतिक्र‍िया दी है।

झारखंड में बिजली की भारी किल्लत, 8 घंटे तक लोड शेडिंग

झारखंड में बिजली की किल्लत आम लोगों को तो चुभ ही रही थी, अब खास लोगों को भी यह परेशान कर रही है। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान रांची के लाल महेंद्र सिंह धौनी की पत्नी साक्षी ने राज्य की लचर बिजली व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं। ट्वीट कर उन्होंने पूछा है, जानना चाहती हूं कि झारखंड में वर्षों से बिजली की समस्या क्यों है। राज्य की टैक्स पेयर होने के नाते मैं यह जानना चाहती हूं। गौरतलब है कि आइपीएल मुकाबलों के कारण धौनी तो महाराष्ट्र में हैं, साक्षी परिवार के साथ रांची में ही हैं। रांची समेत पूरे राज्य में बिजली की किल्लत है।

राज्य में मांग के अनुरूप बिजली की आपूर्ति नहीं मिलने का असर दिख रहा है। दिन को भी बिजली की लोड शेङ्क्षडग हो रही है, वहीं पीक आवर में ज्यादा ही परेशानी हो रही है। सोमवार को भी 400 मेगावाट से अधिक की कमी महसूस की गई। इसकी एक बड़ी वजह इंडियन इनर्जी एक्सचेंज से बिजली नहीं मिलना भी बताया जाता है। अधिकारियों के मुताबिक स्थिति में जल्द सुधार की संभावना है।

इंडियन एनर्जी एक्सचेंज से भी समन्वय स्थापित करने की कोशिश की जा रही है। फिलहाल राज्य की डिमांड 2500 मेगावाट से अधिक है। पूरा दारोमदार टीवीएनएल की दो यूनिटों पर है, जिससे अभी लगभग 350 मेगावाट का उत्पादन हो रहा है। आधुनिक पावर एक यूनिट अभी बंद है। संभावना है कि मंगलवार से यूनिट से उत्पादन सामान्य हो जाएगा। बिजली संकट के कारण आम उपभोक्ताओं के साथ-साथ उद्योगों और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर भी असर हो रहा है।

Most Popular