सर्पदंश से मरी नौ वर्षीया छात्रा को जिंदा करने के लिए 20 घंटे तक शव को घर में रोक तांत्रिक ने की झाड़फूंक फिर झांसा देकर हो गया फरार

सर्पदंश से मरी नौ वर्षीया छात्रा को जिंदा करने के लिए 20 घंटे तक शव को घर में रोक तांत्रिक ने की झाड़फूंक फिर झांसा देकर हो गया फरार

सर्पदंश से मरी नौ वर्षीया छात्रा को जिंदा करने के लिए एक तांत्रिक ने 20 घंटे तक शव को घर में रोककर झाड़फूंक किया। फिर तांत्रिक गुरुवार अहले सुबह लोगों को झांसा देकर गांव से निकल गया। अंतत: मृत छात्रा को दफनाया गया।
बताया गया कि भठंडी गांव में मो. जाबिर की पुत्री साहिबा जब घर में सो रही थी तो मंगलवार देर रात सांप ने काट लिया। कुछ देर बाद छात्रा ने अपनी मां को बताया कि उसे किसी चीज ने काट लिया है। इसके हाथ में जख्म मिले तब लोग स्थानीय स्तर पर झाड़फूंक में लग गये। तबीयत बिगड़ने पर सकरा रेफरल अस्पताल ले गए जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। फिर भी परिजनों ने उसे जिंदा होने की उम्मीद के साथ मुरौल प्रखंड के बखरी गांव ले गए। लेकिन वहा से भी वापस कर दिया गया। फिर भी परिजन नहीं माने और वैशाली जिले के कावा चिकनौटा गांव से एक तांत्रिक को बुला लाये। तांत्रिक ने परिजनों व ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि काफी देर हो गया है फिर भी छात्रा के जिंदा होने की उम्मीद है। तांत्रिक ने छात्रा के शव की झाड़फूंक शुरू की। लोगों को झूठी दिलासा देते रहा। तांत्रिक के हाथ खड़े करने के बाद मैइयत के लिए मस्जिद के इमाम ने घोषणा की।