Homeमनोरंजनरिया चक्रवर्ती के सपोर्ट में स्वरा भास्कर, कहा- मर्डर का कोई सबूत...

रिया चक्रवर्ती के सपोर्ट में स्वरा भास्कर, कहा- मर्डर का कोई सबूत नहीं, लेकिन सुशांत के परिवार को लेकर कही यह बात

सुशांत सिंह राजपूत केस में सीबीआई ने रिया चक्रवर्ती  समेत कुछ लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। वहीं पिछले कुछ दिनों एनसीबी की रिया से पूछताछ जारी है। सोशल मीडिया पर रिया को लेकर काफी निगेटिव कमेंट्स किए जा रहे हैं, तो वहीं कुछ सेलेब्स रिया के सपोर्ट में हैं। उनका कहना है कि बिना दोष साबित हुए हमें रिया को दोषी करार नहीं करना चाहिए। इस लिस्ट में स्वरा भास्कर का नाम भी शामिल है। स्वरा ने हाल ही में एक मैग्जीन में रिया को सपोर्ट कर अपनी बात रखी है।

स्वरा ने लिखा कि रिया को लेकर जो खबरें आती रहती हैं उन्हें देखकर एक्ट्रेस को आर्थर मिलर के प्ले की याद आती है जिसमें 20 औरतों को जादू टोना करने के शक में फांसी दी जाती है।

स्वरा ने लिखा, ‘शुरुआत में नेपोटिज्म को लेकर शुरू हुआ डिबेट अचानक सुशांत के पिता द्वारा पटना में दर्ज एफआईआर के बाद सबका ध्यान रिया पर चला गया। इसके बाद बिना दोष साबित हुए मीडिया ट्रायल और फेक कैम्पेन के जरिए यह डिक्लेयर कर दिया गया कि रिया मर्डरर है।’

एक्ट्रेस मे आगे लिखा, ‘जहां इस बात का कोई सबूत नहीं है कि सुशांत का मर्डर हुआ है, वहीं ऐसे सबूत सामने आ रहे हैं कि सुशांत के परिवार ने झूठ बोला है।’

रिया ने सुशांत की बहन के खिलाफ दर्ज करवाया केस

रिया ने सुशांत सिंह राजपूत की बहन प्रियंका सिंह और अन्य के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज करवाया है। रिया ने मुंबई पुलिस में शिकायत दर्ज करवाते हुए सुशांत की बहन प्रियंका सिंह, राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डॉ. तरुण कुमार और अन्य पर फर्जी मेडिकल प्रिस्क्रिप्शन का आरोप लगाया है। शिकायत में कहा गया है कि ये ही लोग सुशांत सिंह राजपूत का फर्जी मेडिकल प्रिस्क्रिप्शन बनाने के पीछे हैं। 

रिया की यह शिकायत सुशांत और उनकी बहन के बीच 8 जून को हुई वॉट्सऐप चैट को लेकर है। इसी दिन रिया चक्रवर्ती सुशांत का घर छोड़कर चली गई थीं। उस चैट से पता चल रहा था कि सुशांत की बहन प्रियंका ने उनसे हफ्तेभर तक लिब्रियम और रोजाना नेक्सिटो और लोनाजेप लेने के लिए कहा है।

सुशांत के परिवार के वकील का बयान

सुशांत के परिवार के वकील विकास सिंह का कहना है कि रिया द्वारा मुंबई पुलिस में की गई शिकायत चल रही सीबीआई जांच को बाधित करने और मामले में राज्य पुलिस की भूमिका को बनाए रखने की एक चाल है।

Most Popular