रिया की गिरफ्तारी पर बिहार के डीजीपी का बयान, सुशांत को इंसाफ की ओर पहला कदम

riya chakraborty sushant singh rajput ncb bihar dgp gupteshwar pandey

बॉलीवुड के दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमयी मौत से जुड़े ड्रग (नशीली दवा) मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। एनसीबी ने रिया से आज तीसरे दिन पूछताछ की। वहीं इस मामले को लेकर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा है कि सबूत मिलने के बाद ही एनसीबी ने रिया चक्रवर्ती को गिरफ्तार किया है।

डीजीपी ने आगे कहा कि सुशांत सिंह राजपूत को इंसाफ मिलने की दिशा में यह पहला कदम है। इसके अलावा डीजीपी ने सुशांत केस की जांच कर रही सीबीआई पर भी भरोसा जताया है। डीजीपी ने कहा है कि रिया चक्रवर्ती का चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। रिया और ड्रग पेडलर्स के बीच रिश्तों की सच्चाई सामने आने के बाद ही एनसीबी ने उनको गिरफ्तार किया है।

वहीं सुशांत सिंह राजपूत के परिवार के वकील विकास सिंह ने मंगलवार को दावा किया कि रिया चक्रवर्ती की शिकायत पर मुंबई पुलिस द्वारा राजपूत की बहनों और अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करना गैर कानूनी है और वे इस मामले में कठोर कदम उठाएंगे। 

वरिष्ठ अधिवक्ता ने कहा कि राजपूत की मौत का मामला गंभीर है और सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय और स्वापक नियंत्रण ब्यूरो जैसी कई एजेंसियां मामले की जांच कर रही हैं और वे आरोपी द्वारा ऐसी शिकायत दर्ज कराकर जांच को भटकाने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि फैसला लिया जाएगा कि सुशांत सिंह राजपूत का परिवार अवमाना याचिका दायर करे या इस मामले में उनकी (रिया की) शिकायत को खारिज कराने को लेकर अर्जी दे। सुशांत के परिजनों ने राजपूत की ‘लिव इन पार्टनर अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया है।

विकास सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा, मुझे प्राथमिकी दिखाई गई। पहला विचार मेरे दिमाग में आया कि क्या बांद्रा पुलिस थाना उनका (चक्रवर्ती) दूसरा घर है। मुंबई पुलिस द्वारा प्राथमिकी दर्ज करना पूरी तरह से गैरकानूनी है और उच्चतम न्यायालय के आदेश की अवमानना है। उन्होंने कहा, शीर्ष न्यायालय ने साफ तौर पर कहा है कि मुंबई पुलिस केवल संबंधित प्रक्रिया के तहत प्राथमिकी दर्ज कर सकती है। उच्च न्यायालय के फैसले के अनुसार चिकित्सा टीम गठित किए बिना डॉक्टर के खिलाफ कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की जा सकती।

बता दें कि रिया ने आरोप लगाया है कि प्रियंका सिंह, दिल्ली के डॉक्टर तरुण सिंह और अन्य ने 34 वर्षीय अभिनेता के तनाव का इलाज करने के लिए फर्जीवाड़ा कर दवा की फर्जी पर्ची बनाई। रिया ने रविवार को बांद्रा पुलिस में शिकायत भेजी और प्रियंका सिंह और दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में कार्यरत डॉ.तरुण सिंह के खिलाफ आईपीसी, एनडीपीएस अधिनियम और टेलीमेडिसीन इलाज दिशानिर्देश के तहत मामला दर्ज करने की मांग की।