बिहार विधानसभा चुनाव में ताकत झोंकने के लिए झामुमो तैयार, जानें क्या बनाई है रणनीति

बिहार विधानसभा चुनाव में ताकत झोंकने के लिए झामुमो तैयार, जानें क्या बनाई है रणनीति

बिहार विधानसभा चुनाव के समर में झामुमो ने उतरने का मन बना लिया है। झामुमो की ओर से पूर्व में ही संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के घटक के रूप में 12 सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा किया जा चुका है। हालांकि अब तक झामुमो को लेकर बिहार में महागठबंधन की तस्वीर साफ नहीं हुई है। दूसरी ओर झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि झामुमो को लेकर बिहार में राजद के नेतृत्व वाले गठबंधन में संशय पैदा किया गया या सम्मानजनक जगह नहीं दी गई तो पार्टी गैर भाजपा दलों के साथ गठबंधन के विकल्प पर आगे बढ़ेगी।  

उन्होंने उम्मीद जताई है कि झामुमो महागठबंधन का हिस्सा होगा, जिसमें राजद, कांग्रेस और समान विचारधारा वाले अन्य दल शामिल होंगे। कहा कि झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के साथ मिलकर नीतीश कुमार की सरकार को सत्ता से बेदखल करने के लिए एकजुट होंगे। झामुमो मुख्य रूप से झारखंड-बिहार की सीमा से जुड़े तारापुर, कटोरिया, मनिहारी, झाझा, बांका, ठाकुरगंज, रूपौली, रामपुर, बनमनखी, जमालपुर, पीरपैंती और चकाई विधानसभा क्षेत्रों पर प्रत्याशी देगा। 

उन्होंने कहा कि हेमंत युवाओं के चहेते नेता के रूप में तेजी से उभर रहे हैं। वह युवाओं के मुद्दों पर उनकी आवाज बने। जेईई-नीट की परीक्षा को लेकर वह काफी सक्रिय रहे। उनको गांवों में पसंद किया जा रहा है। प्रवासी श्रमिकों की वापसी के लिए पहली ट्रेन हो या एयरलिफ्ट हेमंत अड़े रहे। उनकी लोकप्रियता का जादू बिहार विधानसभा चुनाव में जरूर देखने को मिलेगा। पार्टी ने तैयारी कर ली है, गठबंधन पहली प्राथिमकता होगा। यह मुमकिन नहीं भी हुआ तब भी बिहार विधानसभा चुनाव में झामुमो अपने प्रत्याशी उतारेगा।