बिहार में हेरोइन, गांजा और अफीम की तस्करी रोकने के लिए एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स का गठन

drug smuggling  bihar police  special force constituted  anti narcotics task force

मादक पदार्थों की तस्करी पर रोक लगाने के लिए बिहार पुलिस ने विशेष फोर्स का गठन किया है। यह एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स के नाम से जाना जाएगा। डीएसपी से लेकर सिपाही तक की इसमें तैनाती होगी और डीआईजी स्तर के अधिकारी के अधीन यह काम करेगा। इसका अपना सशस्त्र बल होगा, जो किसी भी समय और कहीं भी अभियान को अंजाम दे सकता है।

ईओयू के अधीन होगा यह टास्क फोर्स
बिहार पुलिस की एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स, आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) के अधीन काम करेगा। फोर्स के गठन को मंजूरी दे गई है और इसके लिए जवानों का चयन किया जा रहा है। इस फोर्स में डीएसपी रैंक के अधिकारी के अलावा इंस्पेक्टर, सब-इंस्पेक्टर और सिपाही की तैनाती होगी। 16 सिपाहियों का सशस्त्र दस्ता भी होगा। ईओयू के डीआईजी इस फोर्स के कामकाज की मॉनिटरिंग करेंगे। यह पूरे राज्य में कहीं भी अभियान को अंजाम दे सकता है। मादक पदार्थों की तस्करी को रोकने के साथ गांजा और अफीम की अवैध खेती को नष्ट करने का भी काम इसी एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स के जिम्मे होगा। 

अंतर्राष्ट्रीय व अंतर्राज्यीय सिंडिकेट होते हैं शामिल
मादक पदार्थों की तस्करी करनेवाले सिंडिकेट देश के अलावा विदेशों में भी फैले हैं। भारत के आस पड़ोस खासकर पाकिस्तान, आफगनिस्तान, म्यन्मार, थाइलैंड और नेपाल से हेरोइन, चरस और दूसरे महंगे नशीले पदार्थों की तस्करी होती है। गृह मंत्रालय ने इसपर रोक लगाने के लिए कई कदम उठाए हैं। इसके तहत केन्द्र के साथ राज्य स्तर पर भी विभिन्न कमेटी का गठन किया है। बिहार में मुख्य सचिव की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय कमेटी गठित कर दी गई है। इसमें गृह, स्वास्थ्य, कृषि, मद्य निषेध और वन विभाग के प्रमुख अधिकारियों के अलावा डीजीपी और केन्द्रीय एजेंसियों के अफसरों को भी सदस्य के तौर पर रखा गया है। ऐसी ही कमेटी डीएम की अध्यक्षता में जिला स्तर पर बनी है। मादक पदार्थों की तस्करी और अवैध खेती को रोकने के लिए एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स का गठन इसी वृहद योजना का एक हिस्सा है।

मादक पदार्थों की तस्करी और इसके इस्तेमाल को रोकने के लिए राज्य सरकार और ईओयू प्रयासरत है। इससे जुड़े सिंडिकेट के खिलाफ लगातार कार्रवाई होती है। इसी कड़ी में राज्य स्तर पर एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स का गठन किया गया है। साथ ही लोगों को मादक पदार्थों के सेवन से दूर रखने के लिए जागरूकता अभियान भी चला रहे हैं। 
– जेएस गंगवार, एडीजी, ईओयू