बिहार में रोजगार पर तेजस्वी ने उठाए सवाल, पूछा- सीएम नीतीश बेरोजगारी पर बात करने से डरते क्यों हैं?

rjd leader tejaswi yadav  file pic

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में सीएम नीतीश को घेरने के लिए विपक्ष मुद्दों की तलाश में जुट गया है। कुछ मुद्दे उनके हाथ भी लगे हैं। इसी में एक बेरोजगारी और युवाओं से जुड़ा मुद्दा भी है। एक ओर नेता प्रतिपक्ष इस पर सवाल उठा रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस पार्टी भी बेरोजगारी और युवाओं के मुद्दे पर आंदोलन करने का ऐलान कर दिया है। 

ताजा मामले में कोरोना और बाढ़ मुद्दे पर हमेशा नीतीश सरकार पर हमलावर रहे नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी ने बेरोजगारी और युवाओं के मुद्दे पर नीतीश सरकार पर हमला बोलते हुए सवाल उठाए हैं। इस मामले में तेजस्वी यादव ने ट्वीट करते हुए सवाल पूछा है। 

तेजस्वी ने ट्वीट करते हुए पूछा कि – बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार बेरोज़गारी पर बात करने से डरते क्यों है? क्या बिहार को बेरोज़गारी का मुख्य केंद्र बनाने के बाद उन्हें शर्म आती है? क्या नौकरियों में धाँधली और बिहार के उद्योग-धंधे बंद करवाने के बाद भी वह युवाओं को भ्रमित कर और अधिक ठगना चाहते है?

 

इससे पहले भी तेजस्वी ने बेरोजगारी मुद्दे पर नीतीश सरकार पर तंज कसते हुए कहा था कि- बेरोजगारी इस देश का सबसे ज्वलंत मुद्दा है लेकिन यह सरकार की प्राथमिकता में नहीं है। करोड़ों युवाओं को नौकरी देने का वादा था यहाँ तो नौकरियाँ छिनी जा रही है। बिहार में सबसे अधिक बेरोज़गारी है। ड़बल इंजन सरकार ने बिहार को बेरोज़गारी का केंद्र बना दिया।  
 

बेरोजगारी के खिलाफ अभियान चलाएगी युवा कांग्रेस
उधर राजधानी पटना के सदाकत आश्रम में बुधवार को प्रदेश युवा कांग्रेस ने प्रदेश अध्यक्ष गुंजन पटेल की अध्यक्षता में बिहारी बेरोजगार युवाओं की पंचायत का आयोजन कर कांग्रेस ने चुनाव में बेरोजगारी और युवाओं से जुड़े मामले में नीतीश सरकार को घेरने का ऐलान कर दिया।  सदाकत आश्रम में बुधवार को आयोजित पंचायत में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा ने कहा के कांग्रेस बेरोजगारों, युवाओं, किसानों, शोषितों की लड़ाई लड़ती रही है। पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव के घोषणा पत्र में भी इनकी समस्याओं को प्रमुखता से स्थान देगी।

वहीं गुंजन पटेल ने कहा कि बिहार में बेरोजगारी दर करीब 47 प्रतिशत है। कहा कि करीब पांच लाख पद खाली पड़े हैं। हर सरकारी बहाली अटकी हुई है। आरोप लगाया कि सरकार ने बिहारी युवाओं को हाशिये पर धकेलने का काम किया है। अब समय आ गया है कि सभी युवा साथी एकजुट होकर इस लड़ाई को लड़ें।