बिहार के शहरों में 768 और ग्रामीण इलाकों में सबसे ज्यादा 2473 कंटेनमेंट जोन सक्रिय

बिहार के शहरों में 768 और ग्रामीण इलाकों में सबसे ज्यादा 2473 कंटेनमेंट जोन सक्रिय

बिहार में 3241 सक्रिय कंटेनमेंट जोन हैं। इनमें ग्रामीण क्षेत्रों में 2473 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं, जहां कोरोना संक्रमित मरीजों की जांच की कार्रवाई की जा रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के दिशा-निर्देशों के तहत ऐसा हो रहा है। 

बिहार में एक ओर जहां संक्रमित मरीजों के स्वस्थ होने की दर 88 फीसदी से अधिक हो गयी है, वहीं, नए मरीजों की पहचान में भी कमी आयी है। इन इलाकों में 7 लाख 16 हजार से अधिक घरों की निगरानी की जा रही है। इन इलाकों की कुल आबादी 37 लाख 21 हजार 538 है। 

स्वास्थ्य विभाग के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, राज्य के शहरी क्षेत्रों में 768 कंटेनमेंट जोन हैं। यहां भी सघन जांच की कार्रवाई की जा रही है। इन जोन में 3 लाख 94 हजार 663 घरों में रहने वाले लोगों को निगरानी के दायरे में रखा गया है। इन इलाकों की कुल आबादी 18 लाख 15 हजार 698 है। राज्य में अभी 3241 सक्रिय कॉन्टेनमेट जोन हैं। इन ज़ोन में कुल 11 लाख 11 हजार 288 घरों को निगरानी के दायरे में रखा गया है। किसी भी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण मिलने पर उनकी तत्काल जांच की व्यवस्था की गई है।

सभी जिलों में एंटीजन किट उपलब्ध 
स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी कंटनेमेंट जोन में रहने वाले लोगों की कोरोना जांच को लेकर एंटीजन किट उपलब्ध कराए गए हैं, ताकि मांग के अनुसार सरकारी अस्पतालों में तत्काल कोरोना की जांच की जा सके। सूत्रों में बताया कि करीब पांच लाख एंटीजन किट उपलब्ध कराए गए हैं।