Homeबिहारबिहार के बच्चों को तैराकी सिखाएगी बिहार सरकार, इस 18 जिलों में...

बिहार के बच्चों को तैराकी सिखाएगी बिहार सरकार, इस 18 जिलों में शुरू होगा अभियान, सभी पंचायतों में नियुक्त होंगे मास्टर

बिहार में गंगा नदी की कमी नहीं है। ऐसे में अक्सर देखने को मिलता है कि राज्य के कई जिले गंगा में उफनती पानियों में बह जाता है। जिससे लोगों की जिंदगी भी दाव पर आती है। ऐसे में आपदा प्रबंधन विभाग में एक निर्णय लिया है, जिसमें राज्य के बच्चों को तैराकी सिखाएगी। विभाग इसको लेकर खास अभियान पूरे राज्य के 18 जिलों में चलाने जा रही है।

ग्रामीणों को तैराकी के गुण सिखाए जाएंगे
यदि सब कुछ ठीक रहा तो यह अभियान बहुत जल्द शुरू होगा। प्रदेश की नदियों से सटे पांच किलोमीटर के रेंज वाले ग्रामीणों को तैराकी के गुण सिखाए जाएंगे। सरकारी इन इलाकों में खास अभियान चलाएगी। राज्य के 18 जिले जहां डूबने से ज्यादा मौत के मामले आ रहे हैं, वहां अभियान चलाया जाएगा‌। बिहार राज्य प्रबंध प्राधिकरण ने तैराकी सीखने की योजना बनाई है।

पिछले चार सालों में 1140 लोग डूबने से मरे
बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने आपदा प्रबंधन रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई है कि प्रदेश के केवल 18 जिले में गत 4 वर्षों में 1140 लोग डूबने से मरे हैं। अधिकांश वजह बच्चे तैराकी के वजह से ही डूबे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक बच्चें, किशोर और युवा की मौत सबसे ज्यादा हुई है। लड़कों से ज्यादा मौत लड़कियों की हुई है। पिछले 6 मई को अथॉरिटी ने 18 जिलों के बीडीओ और संबंधित पंचायतों के मुखिया के साथ विशेष मीटिंग की।

इन जिलों में तैराकी का अभियान चलाया जाएगा
बता दे कि मास्टर ट्रेनर जनप्रतिनिधियों के सहयोग से लोगों को तैराकी सिखायेंगे। कोशिश है कि अधिक- से- अधिक लोगों विशेषकर युवाओं को तैराकी में प्रशिक्षित कर दिया जाये ताकि अगर कोई घटना हो तो वे बच्चों की जान बचा सकें। जिन जिलों में यह अभियान चलाया जाएगा। उनमें पूर्वी चंपारण, सारण, जहानाबाद, खगड़िया, पटना, अरवल, मुंगेर, समस्तीपुर, रोहतास, शिवहर, बेगूसराय, मधेपुरा, लखीसराय, कटिहार, भागलपुर, नालंदा, गया व किशनगंज शामिल है।

Most Popular