बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडे के इस्तीफे पर बोले अनिल देशमुख-मेरा शक बिल्कुल सही था

मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Home Minister Anil Deshmukh) ने कहा है कि उन्हें संदेह था कि बिहार के पूर्व पुलिस प्रमुख गुप्तेश्वर पांडे (Gupteshwar Pandey) अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Actor Sushant Singh Rajput) की मौत के मामले में भाजपा नेता की तरह बात कर रहे हैं और यह बात अब सही साबित हो गई है. राजपूत मौत मामले की सीबीआई जांच की मांग करने वाले पांडे महाराष्ट्र में गैर-भाजपा दलों के निशाने पर हैं.

हाल ही में उन्होंने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली है और कयास लगाए जा रहे हैं कि वह अक्टूबर-नवंबर में बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव में किस्मत आजमा सकते हैं. पांडे के हालिया बयानों और भाजपा के साथ नजदीकी को लेकर महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास आघाड़ी सरकार में साझेदार शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस उन पर निशाना साध रहे हैं.

बिहार चुनावों के मद्देनजर महाराष्ट्र पुलिस को बदनाम करने की कोशिश
देशमुख ने गोंदिया में पत्रकारों से बात करते हुए भाजपा पर बिहार चुनाव के मद्देनजर साजिश के तहत महाराष्ट्र और इसकी पुलिस को बदनाम करने का आरोप भी लगाया. राकांपा नेता ने कहा, ‘‘बीते डेढ़-दो महीने के दौरान आपने देखा कि वरिष्ठ पुलिस अधिकारी होने के बावजूद पांडे ऐसे बात कर रहे थे जैसे कि भाजपा के वरिष्ठ नेता हों और अब यह बात सही साबित हो गई है.’’


देशमुख ने कहा ‘‘वह इस्तीफा दे चुके हैं…मैं केवल एक ही बात कहना चाहूंगा कि यह बिहार चुनाव को ध्यान में रखते हुए महाराष्ट्र और यहां की पुलिस को बदनाम करने की भाजपा की साजिश थी.’’ पांडे ने मंगलवार को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने के बाद अगले दिन कहा था कि अब वह ‘आजाद’ हैं और चुनाव लड़ना कोई गलत काम नहीं है.