Homeबिहारबिहार के इस मंदिर में नेत्र पीड़ितों की रोशनी तो संतान की...

बिहार के इस मंदिर में नेत्र पीड़ितों की रोशनी तो संतान की होती है प्राप्ति, यहां 9 दिनों तक निर्जला हाजिरी लगाएंगे व्रती

बिहार के जमुई जिले में सिकंदरा प्रखंड के कुमार गांव स्थित नेत्र व पुत्र प्राप्ति देवी के रूप  है मां नेतुला मंदिर. शारदीय नवरात्र के मौके पर यहां हर साल कई राज्यों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु अपनी मनोकमना लेकर आते हैं. मां नेतुला के दरबार में विशेष रूप से नवरात्रि पर 9 दिनों तक अन्य प्रदेशों से आने वाले महिला श्रद्धालु सुबह व शाम दंडवत कष्टी देती हैं.

इस साल आज से नवरात्र की पहली पूजा व कलश स्थापना के साथ शारदीय नवरात्र का पाठ हुआ. इस दौरान सभी व्रतधारी संकल्प लेकर मां नेतुला के दरबार में 9 दिनों तक साफ-सफाई करने के साथ सुबह-शाम हाजिरी लगाएगें. वहीं कुछ महिला व्रतधारी 9 दिनों तक निर्जला उपवास में रहती हैं. नेत्र व पुत्र प्राप्ति की देवी के रूप में मां की पूजी जाती है. माता के दरबार में नीर और फूल महाप्रसाद है. नीर से नेत्र पीड़ित मरीजों के आंखों की रोशनी एवं फूल के महाप्रसाद – से बांझपन को भी संतान की प्राप्ति होती है.

यात्रियों के ठहरने के लिए निःशुल्क व्यवस्था
मंदिर कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष हरदेव सिंह ने बताया कि नवरात्र के एक दिन पहले बिहार, बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, महाराष्ट्र, राजस्थान, गुजरात समेत कई राज्यों से श्रद्धालु पहुंचते हैं. मंदिर परिसर मंदिर परिसर के आसपास विभिन्न भवनों में यात्रियों को रहने के लिए. निःशुल्क स्थान दिया जाता है. इतने दूर-दूर से आने वाले भक्तों के पहुंचने का मुख्य कारण मां की शक्ति है. जिनकी मन्नते पूरी हुई उनके रिश्तेदार भी यहां आकर माता के दरबार में हाजिरी लगाते हैं और मनोकामना करते हैं.

नवरात्र के प्रथम दिन व्रतधारी संकल्प व शुद्धता के साथ व्रत शुरू करते हैं. सुबह शाम तालाब में स्नान कर माता के दरबार में दंडवत कष्टी दी जाती है. इसके बाद माता को भोग लगाकर फलाहार करते हैं. सुबह 11 बजे एवं संध्या 7:30 बजे महाआरती में सभी श्रद्धालु शामिल होते हैं. अष्टमी पूजा के बाद मंदिर परिसर में सरकारी बली के बाद हजारों पाठे की बली दी जाती है. मंदिर के पुजारी श्मशान भूमि में शमशान देवी की पूजा करते हैं. इस दौरान भुआ, पाठा, भेड़, केला, नारियल की भी बलि दी जाती है.

प्रशासन की ओर से भी व्यवस्था मजबूत
मंदिर कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष हरदेव सिंह, सचिव कृष्णनंदन सिंह ने बताया कि यात्रियों की सुविधा के लिए मंदिर कमेटी की ओर से 28 शौचालय, 6 स्नानघर, 24 घंटा पानी की सप्लाई, आठ चापाकल, चार सफाई कर्मी सहित स्काउट गाइड लखीसराय की टीम की व्यवस्था की गई है. पांच हजार से अधिक यात्रियों के रहने के लिए यात्री कुंज, धर्मशाला, सभा भवन, सामुदायिक भवन, हाईस्कूल सहित 2 वाटर प्रूफ पंडाल की व्यवस्था की गई है.

Most Popular