Homeबिहारबिहार अब अत्याधुनिक डाटा सेंटर के जरिए दूसरे राज्यों के लिए भी...

बिहार अब अत्याधुनिक डाटा सेंटर के जरिए दूसरे राज्यों के लिए भी बाढ़ का पूर्वानुमान दे सकेगा 

बिहार ने बाढ़ से नुकसान को कम करने की दिशा में एक नई पहल शुरू कर दी है। इसके लिए मंगलवार को जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने अनिसाबाद में जल ज्ञान केन्द्र का शिलान्यास किया। इस केन्द्र में सेटेलाइट से मिली नदियों की तस्वीरों का विश्लेषण कर बाढ़ का अनुमान लगाया जा सकेगा। साथ ही, दूसरे राज्यों के लिए भी पूर्वनुमान जारी किया जा सकेगा। इसके लिए विभाग नदियों के गुजरने वाले राज्यों को पत्र से सूचित करेगा। इस डाटा सेंटर का वर्चुअल उद्घाटन 26 अगस्त को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया था।

इस मौके पर श्री झा ने कहा कि बाढ़ प्रबंधन के लिए इस अत्याधुनिक डाटा सेंटर का निर्माण  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का सपना था। डाटा सेंटर में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और इंटरनेट ऑफ थिंग्स का उपयोग करते हुए विभिन्न स्थलों से प्राप्त होने वाले आंकड़ों का स्वचालित रूप से संग्रहण हो सकेगा। इससे सटीक पूर्वानुमान मिलेगा और उसके माध्यम से बाढ़ से होने वाले नुकसान को कम करने में मदद मिलेगी। इसका उपयोग कोसी और बागमती  सहित पूरे बिहार के बांध एसेट मैनेजमेंट सिस्टम में किया जाएगा। 

आधुनिक डाटा सेंटर होने से नदियों के मॉडलिंग कार्य, बाढ़ पूर्वानुमान तथा चेतावनी प्रणाली हाईटेक होगी। इस सेंटर का उपयोग नदियों के मॉडलिंग तथा बाढ़ पूर्वानुमान व चेतावनी प्रणाली कार्य में किया जाना है। विभाग के इस उन्नत डेटा सेंटर से अन्य राज्यों की नदियों के जलस्तर का भी पूर्वानुमान जारी किया जा सकता है।  

यहां गणितीय प्रतिमान केंद्र का संचालन भी किया जा रहा है। विभाग इस बार नदियों के जलस्तर संबंधी 72 घंटे के पूर्वानुमान जारी कर सका है। इससे कई क्षेत्रों में समय रहते जरूरी कदम उठाकर बाढ़ से नुकसान को कम करने में मदद मिली है। इसके अलावा बीरपुर में स्थापित किये जा रहे विभाग के अत्याधुनिक भौतिकी प्रतिमान केन्द्र इस पूरी कड़ी का एक दूसरा महत्वपूर्ण हिस्सा होगा। कार्यक्रम में विभाग के सचिव संजीव हंस एवं अन्य वरीय अधिकारी भी मौजूद थे। 
 

Most Popular