बिना जानकारी तेजस्वी यादव दलित हित के फैसले का विरोध कर रहे हैं: JDU

bihar assembly elections  election commission  nda in bihar  grand alliance in bihar  nitish kumar

बिहार प्रदेश जेडीयू मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि नेता विपक्ष तेजस्वी यादव आधी-अधूरी जानकारी रखने की खतरनाक स्थिति से गुजर रहे हैं। तभी दलितों के हित में उठाए गए कदम का खुल्लम खुल्ला विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दलित परिवार के किसी की हत्या के बाद एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की जो बात कही है, उसका उल्लेख भारतीय संविधान में पहले से है।

संजय सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार के अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार) अधिनियम की धारा 3 की उपधारा 2 में पांचवें बिंदु के तौर पर इसका उल्लेख है। इसमें अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजातियों से संबंध रखने वाले मृतक व्यक्ति की विधवा या अन्य आश्रितों को प्रतिमाह 5 हजार रुपए की मूल पेंशन के साथ महंगाई भत्ता और मृतक के परिवार के सदस्यों को रोजगार और कृषि भूमि, मकान देने की व्यवस्था दी गई है। राज्य सरकारों को अपने स्तर से इसपर निर्णय करने का अधिकार है।

बता दें कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को पदाधिकारियों को निर्देश दिया था कि अनुसूचित जाति-जनजाति (एससी-एसटी) परिवार के किसी सदस्य की हत्या होने पर पीड़ित परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने के लिए तत्काल नियम बनाएं। उन्होंने कहा था कि एससी-एसटी के उत्थान व उन्हें मुख्य धारा में जोड़ने के लिए कई योजनाएं चलाई जा रही हैं, पर साथ ही अन्य संभावनाओं/योजनाओं पर भी काम करें। इसके अलावा और जो कुछ भी करने की जरूरत होगी, सब कुछ किया जाएगा। अनुसूचित जाति-जनजाति के उत्थान से समाज का उत्थान होगा।