Homeमनोरंजनप्रेमिका का कत्ल कर, अताउल्लाह खान ने जेल में लिखे गाने.. आप...

प्रेमिका का कत्ल कर, अताउल्लाह खान ने जेल में लिखे गाने.. आप तक पहुंची थी बेवफाई की ये कहानी?

अच्छा सिला दिया तूने मेरे प्यार का… इस गाने से लोगों की अलग-अलग यादें जुड़ी हैं। सॉन्ग कानों में पड़ते ही कई लोगों को गोली खाती हुई दुलहन की तरह सजी शिल्पा शिरोडकर याद आ गई होंगी। वहीं कुछ को अताहउल्ला खान की दर्दभरी कहानी। टी-सीरीज ने यह गाना फिर नोरा फतेही और राजकुमार राव के साथ रीक्रिएट किया है। इसके साथ ही लोगों के जहन में 1995 में आई फिल्म बेवफा सनम की यादें ताजा हो गईं। फिल्म और गानों के साथ प्यार, बेवफाई और हत्या की बड़ी इंट्रेस्टिंग कहानी भी जुड़ी है। बेवफा प्रेमिका के कत्ल की इस कहानी को लोगों ने सच मान लिया था। मजेदार बात यह है इस स्टोरी का मुख्य किरदार पाकिस्तान का था जिससे भारत के लोगों को संवेदनाएं जुड़ गई थीं। अगर आपको भी लगता है कि अताउल्लाह खान ने जेल से ये गाने लिखे थे तो सच जान लें…

हर जगह सुनाई देते थे गाने
बी प्राक की आवाज में ‘अच्छा सिला दिया’ गाना फिर से रिलीज किया गया है। इसमें लीड रोल्स में नोरा फतेही और राज कुमार राव दिखाई दे रहे हैं। गाने को यूट्यूब पर देखा जा रहा है साथ ही ओरिजनल सॉन्ग से भी तुलना की जा रही है। 90 के दशक में यह गाना भारत में जमकर पॉप्युलर हुआ था, साथ ही पाकिस्तानी सिंगर अताउल्लाह खान के प्यार की कहानी भी। उस वक्त अताउल्लाह खान के दर्दभरे गाने कुल्फी के ठेले, पान की दुकान, कैसेट्स की दुकान से लेकर शादियों तक में बजाए जाते थे। इनके साथ प्यार और कत्ल की एक कहानी भी प्रचारित कर दी गई थी। 

खूब चर्चित हुई प्रेमिका के खून की कहानी
कहानी कुछ इस तरह थी कि अताउल्लाह खान पाकिस्तानी सिंगर और शायर हैं। उनकी प्रेमिका का अफेयर उनके दोस्त के साथ हो गया। धोखे से बौखलाए अताउल्लाह खान ने प्रेमिका का खून कर दिया। इसके बाद उन्हें फांसी की सजा हो गई। उन्होंने ये दर्द और बेवफाई वाले गाने जेल में लिखे और गाए हैं। उस वक्त ज्यादातर लोगों ने इस कहानी को सच मान लिया था। 

अताउल्लाह खान से जुड़ गए इमोशंस
इस कहानी पर गुलशन कुमार 1995 में एक फिल्म भी लाए जिसका नाम था बेवफा सनम। मूवी में गुलशन कुमार के भाई किशन कुमार लीड थे और उनके अपोजिट शिल्पा शिरोडकर थीं। Imdb पर अगर बेवफा सनम से जुड़ा ट्रीविया चेक करेंगे तो इसमें भी फिल्म को गायक अताउल्लाह खान की कहानी पर बेस्ड लिखा मिलेगा। लोगों ने गानों और फिल्म के साथ इमोशंस जोड़ लिए और फिल्म खूब देखी गई। कुछ शहरों में यह अफवाह भी उड़ गई कि गुलशन कुमार इन कैसेट्स की कमाई से अताउल्लाह खान को जेल से छुड़वाएंगे। कुछ लोग अताउल्लाह खान को फांसी से बचाने के लिए भी कैसेट्स खरीदने लगे। 

 

सोनू निगम की भी निकल पड़ी
कई साल बाद पता चला कि पाकिस्तान में किसी अताउल्लाह खान ने प्रेमिका का खून तो किया था लेकिन गायक अताउल्लाह खान दूसरे थे। रिपोर्ट्स थीं कि गुलशन कुमार ने गानों और फिल्म को बेचने के लिए यह मार्केटिंग स्ट्रैटजी अपनाई थी जिसका उन्हें खूब फायदा मिला। गुलशन कुमार के साथ सोनू निगम भी पॉप्युलर हो गए। उनकी आवाज घर-घर पहुंची। मजेदार बात यह है कि सोनू की आवाज को कई लोग अताउल्लाह खान की ही आवाज समझते थे। तो अब आप समझ चुके होंगे कि असली ‘धोखा’ अताउल्लाह खान के साथ नहीं बल्कि भारत की भोली जनता के साथ हुआ था। 

Most Popular