देश के 130 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन देने पर खर्च करने होंगे 5000 करोड़ रुपये-Zydus Cadila

नई दिल्ली. फार्मा कंपनी जायडस कैडिला के चेयरमैन पंकज आर पटेल (Zydus Cadila Chairman Pankaj R Patel) ने कहा है कि देश में हर व्यक्ति तक कोरोना का टीका (Covid-19 Vaccine) पहुंचाने के लिए जिन सुविधाओं की जरूरत है, उस पर पांच हजार करोड़ रुपये का निवेश करना पड़ सकता है. उन्होंने कहा, ‘भारत में कोरोना वैक्सीन के बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए अतिरिक्त सुविधाओं की जरूरत होगी. कोरोना महामारी का एकमात्र उपाय वैक्सीन ही नहीं है, हमें उपचार के और तरीके की भी तलाश करनी है.’ पटेल ने कहा कि कोरोना वैक्सीन एक बहुत मुश्किल प्लेटफार्म की तरह साबित हो रहा है, इस वजह से वैक्सीन बनाने की लागत बहुत बढ़ जाएगी.

वैक्सीन अकेला समाधान नहीं – पंकज आर पटेल ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि कोरोना महामारी को नियंत्रित करने के लिए वैक्सीन अकेला समाधान नहीं है. हमें वैक्सीन भी चाहिए और ट्रीटमेंट प्रोटोकोल के हिसाब से हमें कुछ नए सुधार करने की जरूरत है.

जायडस कैडिला के चेयरमैन पंकज आर पटेल (Zydus Cadila Chairman Pankaj R Patel)

मुझे लगता है कि इस समय दुनिया भर में जिस तरह वैक्सीन का ट्रायल किया जा रहा है उस हिसाब से 100 फीसदी लोगों में कोरोना से बचाव की इम्यूनिटी डेवलप होने की उम्मीद नहीं है.

खर्च करने होंगे 5000 करोड़ रुपये- पंकज पटेल ने कहा कि अगर भारत को अपनी 130 करोड़ से अधिक आबादी के लिए कोरोना वैक्सीन की खुराक तैयार करनी है तो उसे उत्पादन क्षमता को बढ़ाने के लिए पांच हजार करोड़ रुपये तक के निवेश की जरूरत है. जायडस कैडिला के पटेल ने कहा कि कोरोना वैक्सीन को तैयार करने की प्रक्रिया जटिल है, इसलिए दूसरे वैक्सीन की तुलना में इसे तैयार करने में अधिक खर्च होगा.

ये भी पढ़ें-Corona Impact : पब्लिक ट्रांसपोर्ट में सफर से डर रहे लोग, 74% कर्मचारी चाहते हैं जारी रहे वर्क फ्रॉम होम 

कोविड वैक्सीन पर आयोजित एक चर्चा में पटेल ने कहा, ‘हमें इस बारे में विचार करना होगा कि हम वैक्सीन बनाने की क्षमता जुटाने के लिए धन कहां से लायेंगे?’