देवघर में थानेदार बनकर आए अपराधी, जानें फिर क्या किया

देवघर में थानेदार बनकर आए अपराधी, जानें फिर क्या किया

सारठ अंचल के पथरड्डा ओपी अंतर्गत समलापुर गांव निवासी एसीएससी संचालक इकरामुल अंसारी के घर मंगलवार की तड़क सुबह 2.81 लाख का डाका डाला गया। बदमाशों ने खुद को थाना प्रभारी बताकर घर का दरवाजा खुलवाया। इसके बाद इकरामुल को हथियार दिखाकर अपने कब्जे में ले लिया। धमकी देने के साथ हाथ रस्सी से बांध दिए और सीएससी संचालन का रुपयों से भरा बैग लूट लिया। 

घर में घुसे चार बदमाशों में से एक के पास बंदूक और दो के पास तमंचे थे। सभी ने चेहरे पर मास्क लगा रखा था। सभी मध्यम कद और  रंग काला था। जो घर का सामान सर्च कर रहा था वह एक अपराधी को शब्बीर कहकर बुला रहा था। पीड़ित इकरामुल ने इसकी लिखित शिकयात पथरड्डा ओपी में करने की बात कही। पीड़ित का कहना है कि अपराधी सफेद रंग की गाड़ी से आए थे। उनलोगों ने घर में प्रवेश करने के पहले दरवाजा खटखटाकर अपने को थाना प्रभारी बताया। दरवाजा खोलने में देर करने पर धमकाने लगा। उनके पास हथियार होने के कारण हल्ला करने की हिम्मत नहीं हुई। दो ने ट्राउजर पहना था और दो पैंट पहने थे। देखने पर सबको पहचान लेने का दावा किया गया है। 

घटना के बाद जैसे ही पथरड्डा ओपी में फोन कर इसकी जानकारी दी गई तो एएसआई राम सिंह पहुंचे और पूछताछ की। थाना प्रभारी सुनील कुमार सिंह ने पर बताया कि घटना की प्राथमिकी दर्ज कर जांच की जा रही है। इसी परिवार के एक सदस्य के पू्र्व में 1.40 लाख रुपये बाइक की डिक्की से गायब हुए थे। यह घटना सारठ बजरंगबली चौक पर हुई थी। उस मामले का अभी तक खुलासा नहीं हुआ है।