Homeबिहारदूध उत्पादन में बिहार बनेगा आत्मनिर्भर, दुग्ध समितियों का होगा गठन, तीन...

दूध उत्पादन में बिहार बनेगा आत्मनिर्भर, दुग्ध समितियों का होगा गठन, तीन गुना बढा दूध उत्पादन…

बिहार में कृषि के क्षेत्र में लगातार बढ़ावा दिया जा रहा है। राज्य मछली उत्पादन के क्षेत्र में देश में चौथे स्थान पर है। ऐसे में बिहार में मछली- दूध, अंडा और मांस का उत्पादन ही नहीं, उत्पादकता में भी बढ़ोतरी हो रही है। कुछ महीनों के प्रयास के बाद बिहार मछली में पूरी तरह से आत्मनिर्भर होगा। अभी 67500 टन मछली आयात हो रही है। 37000 टन मछली निर्यात हो रही है। माना जा रहा है कि मत्स्य विभाग में बिहार आने वाले दिनों में काफी बेहतर दिखेगा।

शुक्रवार को राज्य योजना पर्षद की बैठक में कृषि रोड मैप से आये बदलाव और आगे के कार्यक्रम की समीक्षा कर रहे थे। योजनाओं का प्रस्तुतीकरण करते हुए पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग के सचिव डॉ एन सरवण कुमार ने बताया कि पहला कृषि रोड मैप 2007-08 को प्रभावी हुआ है। अभी तीसरा रोड मैच चल रहा है। 2007 से पहले 2.88 लाख मछली पैदा हो रही थी। अब 7.62 लाख टन पैदा हो रही है। लक्ष्य 8.02 लाख टन का है।

पहले कृषि रोड मैप से पहले राज्य का दुग्ध उत्पादन 57.07 लाख टन था, यह वित्तीय वर्ष 2020-21 में 115.02 लाख टन हो गया है। बाढ़ आदि के कारण 159 लाख टन का लक्ष्य पूरा नहीं हो पाया है। अंडे का वार्षिक उत्पादन 10612 लाख से बढ़कर 30132 लाख पर पहुंच गया है। मांस उत्पादन 1.80 लाख टन से बढ़कर 3.86 लाख टन हो गया। गव्य प्रक्षेत्र को सात निश्चय-2 में सम्मिलित किया गया है। इसके तहत गांवों तक दुग्धसमितियों का गठन किया जा रहा है। वित्तीय वर्ष 2024-25 तक 7000 नयी दुग्ध समितियां बनायी जायेंगी। हर साल एक हजार समिति बनेगी।

Most Popular