तेजस्वी ने बिहार में बेरोजगारी को बनाया चुनावी मुद्दा, युवाओं के लिए लांच किया बेरोजगारी हटाओ वेब पोर्टल 

bihar assembly election 2020  tejaswi yadav of rjd made electoral issue to unemployment in bihar lau

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 से पहले ही राजद नेता और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी समेत महागठबंधन ने बिहार में बेरोजगारी और युवाओं से संबंधित मुद्दे को चुनावी मुद्दा बनाने का इशारा किया था। इसको लेकर जहां तेजस्वी ने ट्वीट पर ट्वीट कर जहां नीतीश सरकार से बिहार में बेरोजगारी और युवाओं को लेकर हमला कर रहे थे वहीं सवाल भी पूछ रहे थे। 

इसी कड़ी में शनिवार को राजद नेता तेजस्वी यादव ने बेरोजगारी हटाओ वेबसाइट लांच किया है। इसके साथ ही उन्होंने घोषित रूप  से बिहार विधानसभा चुनाव में बेरोजगारी को मुद्दा बनाने का ऐलान कर दिया। तेजस्वी यादव ने www.berojgarihatwao.co.in वेबसाइट लांच करते हुए एक टोल फ्री नंबर  9334302020 भी जारी किया है। उन्होंने वेबसाइट और हेल्पलाइन नंबर जारी करते हुए कहा कि कोई भी बेरोजगारी से समस्या से संबधित युवा  संपर्क कर सकता है। इस दौरान तेजस्वी ने बिहार समेत देश भर में नौकरियों की कमी को लेकर चिंता जताई है।  

इस दौरान उन्होंने नीतीश सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि सीएम नीतीश कुमार तो हत्या को प्रमोट कर रहे हैं। सवर्ण, पिछड़े और अति पिछड़े लोगों की हत्या होने पर उनके परिजनों को नौकरी क्यों नहीं दी जा सकती। उन्होंने कहा कि दरअसल नौकरी देने का वादा कर सरकार अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों की हत्या करना चाहती है। सरकार की प्राथमिकता होनी चाहिए कि हत्या हो ही नहीं।

तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश पर आरोप लगाया है कि इस ऐलान से नीतीश कुमार का दोहरा चरित्र उजागर होता है। कहा कि बिहार के विकास के लिए जात-पात से ऊपर उठकर काम करने की जरूरत है। इससे साथ ही तेजस्वी यादव ने बिहार सरकार पर हमला करते हुए कहा कि डबल इंजन की सरकार में कोई गंभीरता नहीं।उन्होंने कहा कि सबसे अधिक बेरोजगारी बिहार में हैं, जिसकी दर 46 फीसदी है। 18 से 35 साल के लोग बिहार में बेरोजगार हैं।