डेथ ओवरों में बॉलिंग न मिलने से निराश थे दीपक चाहर, एमएस धोनी ने ऐसे की बोलती बंद

भारत के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी को युवा खिलाड़ियों को निखारने और फिर उन्हें एक वर्ल्ड-क्लास खिलाड़ी बनाने के लिए जाना जाता है। इस मामले में कोई दूसरा कप्तान उनके आस-पास भी नहीं है। एक बेहतरीन खिलाड़ी की पहचान करने और मुसीबत के समय उसकी तारीफ करने से ही वो आज दुनिया के सबसे सफलतम कप्तानों में से एक गिने जाते हैं। इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) में भी उनका कप्तानी का जलवा जमकर देखने को मिला है और इस लीग में खिताब जीतने के मामले में नंबर दो पर हैं। पहले नंबर पर मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा हैं जिन्होंने अपनी टीम को चार बार खिताब जिताया है। धोनी ने अपनी कप्तानी में विराट कोहली, रवींद्र जडेजा, सुरेश रैना, आर अश्विन जैसे विश्वस्तरीय खिलाड़ी दिए हैं और अब इस लिस्ट में सीएसके के तेज गेंदबाज दीपक चाहर का नाम जुड़ गया है।

MI vs CSK: इस प्लेइंग XI के साथ उतर सकती है धोनी-रोहित की टीम

चाहर ने सबसे पहले रणजी टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करके सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया था। वो धोनी ही थे जिन्होंने चाहर को सबसे पहले 2016 में आईपीएल टीम राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स में शामिल करवाया था और इसके बाद वो चेन्नई सुपर किंग्स की टीम का भी हिस्सा बने। यहीं पर चाहर ने महसूस किया कि वो उनका प्रमुख हथियार नई गेंद है और वो पुरानी बॉल से डेथ ओवर में इतने कारगर साबित नहीं होंगे। ऐसे कई मैच देखने को मिले जब धोनी ने चाहर से एक बार में ही चारों ओवर फेंकने के लिए कहा। चाहर को शुरुआत में इस बात का काफी मलाल रहता था कि धोनी उन्हें पारी के आखिरी ओवरों में कम गेंदबाजी क्यों देते हैं।

भारत के पूर्व क्रिकेटर और कमेंटेटर आकाश चोपड़ा से उनके शो ‘आकाश वाणी’ में बात करते हुए दीपक चाहर ने बताया कि एक बार उन्होंने हिम्मत करके महेंद्र सिंह धोनी से पूछ ही लिया कि वो क्यों उन्हें डेथ ओवरों में गेंदबाजी नहीं देते हैं। उन्होंने धोनी से कहा कि मुझे भी डेथ ओवरों में गेंदबाजी करने देना चाहिए। इस पर धोनी ने जवाब देते हुए कहा कि, ‘मैं खिलाड़ियों को निखारता हूं।’ धोनी के इस जवाब को पाकर चाहर आगे कुछ नहीं बोल पाए।

MI vs CSK: कब-कहां-कैसे देखें मैच की लाइव स्ट्रीमिंग और लाइव टेलिकास्ट

दीपक चाहर चेन्नई सुपर किंग्स टीम के अहम खिलाड़ी हैं। पिछले सीजंस में उन्होंने शानदार परफॉर्म किया है। पिछले सीजन में चाहर ने 17 मैचों में 21.90 की औसत से 22 विकेट लिए थे और टीम को फाइनल तक पहुंचाया था। हरभजन सिंह की अनुपस्थिति में चाहर, पीयूष चावला, रवींद्र जडेजा और अन्य गेंदबाजों पर अतिरिक्त जिम्मेदारी रहेगी।

बता दें कि यूएई पहुंचे दीपक चाहर ने पहले जरूरी क्वारंटाइन पूरा किया। इसके बाद जब कोविड-10 जांच हुई तो वह पॉजिटिव पाए गए थे। इसके बाद उन्हें एक सप्ताह और क्वारंटाइन में रहना पड़ा था। इसके बाद कोरोना वायरस टेस्ट नेगेटिव आने और बीसीसीआई की मंजूरी मिलने के बाद उन्होंने मैदान पर प्रैक्टिस शुरू कर दी।

IPL 2020 के पहले मैच में रवींद्र जडेजा के पास इतिहास रचने का मौका