Homeझारखंडट्रेनों का शोर थमा तो स्टेशन के पास विलुप्त पक्षियों ने डाला...

ट्रेनों का शोर थमा तो स्टेशन के पास विलुप्त पक्षियों ने डाला डेरा

लॉकडाउन की वजह से ट्रेन की पहिये थमे हुए हैं। स्टेशन और हॉल्ट में अब न चाय गरम.. चाय गरम की आवाज आती है और न ट्रेनों के आने की उद्घोषणा ही सुनाई पड़ती है। ट्रेनों का शोर थमने का फायदा पक्षियों को मिला और धनबाद के धोखरा हॉल्ट के समीप कई विलुप्त प्रजाति के पक्षियों की चहचाहट सुनाई देने लगी। 

शहर के पुराना बाजार के रहनेवाले पार्थसारथी मंडल वाइल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया देहरादून से पक्षियों पर रिसर्च कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन की वजह से वह अभी अपने घर पर ही हैं। ऐसे में एक दिन पक्षियों पर रिसर्च कर रहे धनबाद के अखिलेश सहाय से मुलाकात हुई। उन्होंने कहा कि धोखरा हॉल्ट के बाहर रिसर्च करें, वहां कुछ नया मिलेगा। उनके कहने पर अपने दो मित्र अनिकेत प्रकाश और अमृतेश कुमार के साथ धोखरा हॉल्ट पहुंचे। हर दिन तीन-चार घंटे तक आसपास घूमने पर कई ऐसे पक्षियों को देखने का मौका मिला, जो आमतौर पर धनबाद में नहीं दिखते। 
 
45 तरह के पक्षियों को कैमरे में किया कैद : पार्थसारथी ने बताया कि स्टेशन में ध्वनि प्रदूषण और वायु प्रदूषण कम होने की वजह से कई पक्षियों ने अपना डेरा इसके आसपास जमा लिया है। इसमें स्पॉटेड डव, लेसर विसलर डक, येल्लो फूटेड ग्रीन पीजियन, इंडियन पांड हेरोंस जैसे पक्षी देखने को मिले। वहीं साइबेरियन पक्षी पायड कुकू भी नजर आए। 
 
पक्षियों के लिए बेहतर जगह बन सकता है धोखरा :  पार्थसारथी ने कहा कि शहर में ढांगी पहाड़ी और शहर से बाहर धोखरा एक ऐसी जगह है, जिसपर सरकार ध्यान दे तो वहां पक्षियों का नियमित बसेरा हो जाएगा। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और लोग बाहर से पक्षी देखने के लिए यहां आएंगे। 

 

Most Popular