टाना भगतों की मांगों पर सरकार जल्द निर्णय लेगी: झारखंड सीएम हेमंत सोरेन

jharkhand cm hemant soren with the tana bhagat delegation in ranchi

झारखंड सीएम हेमन्त सोरेन से मुख्यमंत्री आवास में टाना भगत समुदाय के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल को वार्ता के लिए आमंत्रित किया था। मालूम हो कि पिछले तीन दिनों से अपनी मांगों को लेकर टाना भगत समुदाय ने लातेहार जिला स्थित टोरी रेलवे ट्रैक को जाम कर रखा था, परंतु मुख्यमंत्री के साथ वार्ता के लिए आमंत्रण मिलने के बाद रेलवे ट्रैक को जाम से मुक्त कर दिया गया।

सकारात्मक रही वार्ता
मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन और टाना भगत समुदाय के प्रतिनिधिमंडल के साथ वार्ता सकारात्मक रही। प्रतिनिधिमंडल ने अपनी मांगों और समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा। वार्ता के क्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि टाना भगत समुदाय के विभिन्न मांगों पर राज्य सरकार जल्द ही विधि सम्मत निर्णय लेगी। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल से कहा कि यह सरकार आपकी सरकार है। टाना भगत समुदाय राज्य के धरोहर हैं। टाना भगतों के सर्वांगीण विकास के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। आपके हक और अधिकारों पर कोई भी सेंधमारी नहीं होने दी जाएगी। राज्य सरकार ना केवल आपकी समस्याओं को दूर करेगी बल्कि इस समुदाय के सर्वांगीण विकास के लिए आवश्यक कदम उठाएगी। मुख्यमंत्री के साथ वार्ता के बाद प्रतिनिधिमंडल पूरी तरह संतुष्ट हुआ।

राज्य में जल्द मुख्यमंत्री पशुधन योजना प्रारंभ होगी
मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल से कहा कि जल्द ही राज्य सरकार मुख्यमंत्री पशुधन योजना की शुरुआत करेगी। मुख्यमंत्री पशुधन योजना के तहत फेडरेशन बनाकर लोग पशुपालन का कार्य करेंगे। लोगों को आर्थिक रूप से मजबूती देने के लिए राज्य सरकार कटिबद्ध है। राज्य में अधिक से अधिक रोजगार का सृजन कैसे हो इस पर सरकार निरंतर गहन चिंतन कर रही है। रोजगार सृजन हेतु कई कार्यक्रम चलाए जाने पर विचार किया जा रहा है।

प्राकृतिक संपदा का लाभ झारखंड वासियों को मिले यह राज्य सरकार की प्राथमिकता
मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड के प्राकृतिक संपदा का पूरा लाभ राज्यवासियों को मिले। यह सरकार की प्राथमिकता है। राज्य की संपदा का दुरुपयोग कोई और न कर सके, इसका पूरा ध्यान रखा जाएगा। झारखंड के कोयले से देश और दुनिया रोशन हो रहा है फिर हमारा राज्य अंधेरे में कैसे रह सकता है? हमें अपने हक और अधिकार का पूरा हिस्सा मिलना चाहिए। राज्य के खनिज उत्खन्न में रैयतों को जमीन के बदले मुआवजा और नौकरी सुनिश्चित हो इस पर सरकार विशेष ध्यान दे रही है। 

विधानसभा सत्र के बाद मांगों पर किया जाएगा विचार
मुख्यमंत्री ने बताया कि आगामी विधानसभा सत्र के बाद आपकी मांगों और समस्याओं का निस्तारण किया जाएगा। टाना भगत समुदाय के वैसे बच्चे जो रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय से पास आउट हुए हैं, उन्हें रोजगार से जोड़ने का कार्य सरकार करेगी। आपके बच्चों की पढ़ाई लिखाई के लिए हॉस्टल इत्यादि की व्यवस्था करने पर सरकार काम करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि टाना भगत समुदाय अपने ही परिवार के लोग हैं। विकास की डोर को आप तक पहुंचाना वर्तमान सरकार का कर्तव्य है। मुख्यमंत्री ने टाना भगत समुदाय की समस्याओं के निस्तारण के लिए फोन से ही संबंधित अधिकारियों को दिशा-निर्देश भी दिया।

इन मांगों पर विचार करने का आग्रह
मुख्यमंत्री के समक्ष टाना भगत समुदाय द्वारा भूमि का पट्टा देने, लगान माफ करने, सीएनटी एक्ट को सख्ती से लागू करने, टाना भगत समुदाय के बच्चों को रोजगार से जोड़ने समेत विभिन्न मांग रखी गई। लातेहार विधायक वैद्यनाथ राम ने प्रतिनिधिमंडल को मुख्यमंत्री के साथ वार्ता कराने में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने टाना भगत समुदाय के विभिन्न समस्याओं से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। प्रतिनिधिमंडल में परमेश्वर टाना भगत, महावीर टाना भगत, बहादुर टाना भगत, दिगम्बर टाना भगत, नागेश्वर टाना भगत, रामधन टाना भगत, सरिता टाना भगत, दिनेश टाना भगत, उपेंद्र टाना भगत, मोतीलाल शाहदेव, शीत मोहन मुंडा, हरि कुमार भगत सहित अन्य उपस्थित थे।