Home झारखंड टाटा स्टील में 12 घंटे ड्यूटी का प्रावधान वापस, जानें क्या लिया...

टाटा स्टील में 12 घंटे ड्यूटी का प्रावधान वापस, जानें क्या लिया गया निर्णय

टाटा स्टील में टाटा वर्कर्स यूनियन के विरोध के बाद प्रबंधन ने 12 घंटे ड्यूटी के प्रावधान को वापस लेने का ऐलान कर दिया। मंगलवार को सिंटर प्लांट के चीफ अमित सिंह ने सुबह साढ़े ग्यारह बजे सभी दस कमेटी मेंबरों के साथ ऑनलाइन मीटिंग की। 

मीटिंग में उन्होंने 12 घंटे ड्यूटी का प्रावधान सोमवार से समाप्त करने की जानकारी दी। साथ ही उन्होंने कमेटी मेंबरों को बताया कि पॉड सिस्टम नियमित रूप से जारी रहेगा। न्यू बार मिल और सिंटर प्लांट में प्रबंधन ने पायलट प्रोजेक्ट के रूप में 12 घंटे ड्यूटी का प्रावधान शुरू किया गया था। इस प्रावधान का यूनियन ने विरोध शुरू कर दिया था। सिंटर प्लांट के दस कमेटी मेंबर वीके श्रीवास्तव, अशोक गुप्ता, मनोरंजन तिवारी, संतोष पांडेय, भोला सिंह उर्फ एसके सिन्हा, अविनाश, पल्लव शर्मा, मंजीत सिंह,अजय कुमार और अशोक सिंह मुखिया ने संयुक्त रूप से हस्ताक्षरित पत्र टाटा वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष आर रवि प्रसाद, महासचिव सतीश सिंह व डिप्टी प्रेसिडेंट अरबिंद पांडेय को दिया था। पत्र में 12 घंटे की ड्यूटी से कर्मचारियों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ने, काम का बोझ बढ़ने की बात कहते हुए प्रावधान को समाप्त कराने का आग्रह किया था। मीटिंग के दौरान कमेटी मेंबरों ने चीफ को इस प्रावधान के समाप्त कराने में अहम भूमिका निभाने के लिए धन्यवाद भी दिया। गौरतलब है कि न्यू बार मिल, सिंटर प्लांट, आईबीएमडी में 22 अगस्त से 12 घंटे की ड्यूटी लागू हुई थी।
 

Most Popular