झारखंड : यूटिलाइजेशन सर्टिफिकेट देने पर ही मिलेगी पोशाक व जूते की राशि

student

झारखंड के सरकारी स्कूलों में  पिछले साल बच्चों को दी गई पोशाक, जूता मोजा व स्वेटर की राशि का यूटिलाइजेशन सर्टिफिकेट अभी तक नहीं आया है। स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग ने शैक्षणिक सत्र 2019-20 का यूटिलाइजेशन सर्टिफिकेट आने के बाद ही सत्र 2020-21 के लिए राशि जारी करने का निर्णय लिया है। जिलों से पिछले सत्र में कितने छात्र छात्रा स्कूल में थे और इनमें से कितनों को पोशाक, स्वेटर व जूता मोजा की निर्धारित राशि दी गई इसकी जानकारी मांगी गई है।
राज्य की पहली से आठवीं तक के छात्र छात्राओं को पोशाक जूता मोजा और स्वेटर के लिए राशि दी जाती है। पहली से पांचवी तक के बच्चों को 600 रुपये और छठी से आठवीं तक के छात्र छात्राओं को 760 रुपये पोशाक स्वेटर व जूता मोजा के लिए दिए जाते हैं। तीसरी से आठवीं के बच्चों को जहां उनके बैंक खाते में राशि ट्रांसफर की जाती है वहीं पहली दूसरी के बच्चों की राशि विद्यालय प्रबंध समिति के खाते में जाती है, जहां से स्कूल बच्चों और उसके अभिभावक को बुलाकर नगद राशि का भुगतान  करते हैं। राज्य के 34500 प्राथमिक और मध्य विद्यालयों में करीब 40 लाख छात्र-छात्राएं नामांकित हैं। इन सभी को  नामांकन के आधार पर राशि का भुगतान किया जाएगा।
पिछले वर्ष से कम नामांकन
राज्य के सरकारी स्कूल कोरोना महामारी की वजह से  मार्च से ही बंद है  ऐसे में इसका असर  पठन-पाठन से लेकर  नामांकन प्रक्रिया पर भी पड़ा है। अभी भी 60 से 70 फीसदी ही नामांकन हो सके हैं। पहली, छठी, नौवीं व  11 वीं क्लास में  नामांकन प्रभावित हुए हैं। ऐसे में स्कूलों से नामांकन के आधार पर पोशाक स्वेटर व जूता मोजा की राशि देने से इस साल कम छात्र छात्राओं को योजना का लाभ मिल सकेगा।