झारखंड में शातिर साइबर अपराधियों के निशाने पर पुलिस अफसर, जानें कैसे बना रहे निशाना

झारखंड में शातिर साइबर अपराधियों के निशाने पर पुलिस अफसर, जानें कैसे बना रहे निशाना

झारखंड में शातिर साइबर अपराधियों के निशाने पर खुद पुलिस अफसर हैं। इन साइबर अपराधियों ने सूबे के एक दर्जन से अधिक पुलिस अफसरों के फेसबुक प्रोफाइल की क्लोनिंग कर उनके फर्जी एकाउंट तैयार कर लिए हैं। इसके बाद उनके द्वारा इन फर्जी फेसबुक प्रोफाइल के मैसेंजर के जरिए पुलिस अफसरों के परिचितों से पैसों की मांग की जा रही है।  हैरत की बात यह है कि इन साइबर अपराधियों ने  इसके लिए बीते एक माह में दरोगा से लेकर डीआईजी तक के स्तर के अधिकारियों की तस्वीरों का इस्तेमाल कर फर्जी फेसबुक प्रोफाइल तैयार की है। लेकिन अबतक पुलिस ने फर्जी प्रोफाइल बनाने वाले इस शातिर गिरोह के एक भी सदस्य को गिरफ्तार नहीं किया है। हालांकि पुलिस अधिकारी भी अब मानने लगे हैं कि जामताड़ा व दूसरे साइबर अपराध प्रभावित जिलों के  अपराधियों के द्वारा फेसबुक एकाउंट की क्लोनिंग कर पैसे की मांग की जा रही है।

किन-किन अफसरों के नाम पर बनाया फर्जी एकाउंट : बेखौफ साइबर अपराधियों ने सीआईडी एडीजी अनिल पालटा के एनजीओ प्रभारी अमरेंद्र कुमार वर्मा, रांची क्राइम ब्रांच के प्रभारी मो नेहाल, हजारीबाग सदर डीएसपी कमल किशोर, झारखंड पुलिस के इंस्पेक्टर व वर्तमान में ईडी में प्रतिनियुक्त अनिल सिंह का फेसबुक अकाउंट बनाकर पैसे की मांग की है। इससे पहले साइबर‌ अपराधियों ने कोल्हान डीआईजी राजीव रंजन सिंह की तस्वीरों का इस्तेमाल कर दो अलग-अलग प्रोफाइल बनाए थे। इसके बाद डीआईजी कोल्हान ने फेसबुक पोस्ट लिखकर खुद इस बात की जानकारी दी थी कि उनकी तस्वीरें चुराकर फर्जी प्रोफाइल बनायी गई है।

आईपीएस अफसरों से मांगे थे पैसे : पिछले दिनों साइबर अपराधियों ने बोकारो के एसपी चंदन कुमार झा के फेसबुक प्रोफाइल से तस्वीरें चुराकर नया फेसबुक प्रोफाइल बना लिया था। इसके बाद उनके बैचमेट आईपीएस अधिकारियों से पैसे की मांग की गई थी। हालांकि जैसे ही पुलिस को फर्जी प्रोफाइल बनाये जाने की जानकारी मिली वैसे ही इस अकाउंट को डिएक्टिवेट कराया गया था। रांची में तैनात रहे डीएसपी अरविंद कुमार सिन्हा के नाम पर भी उनके परिचितों से फेसबुक पर पैसे की मांग की जा रही थी।

कैसे मांगते हैं पैसे : पहले तो साइबर अपराधी फेसबुक पर किसी पुलिस अधिकारी की फर्जी प्रोफाइल बनाते हैं। इसके बाद वे उस अधिकारी के असल प्रोफाइल से जुड़े लोगों की सूची बनाते हैं और उस अधिकारी के नाम से उन्हें फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते हैं। फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार होने के बाद मैसेंजर पर पैसे की मांग शुरू होती है। इसके लिए वे वे अधिकारी की ओर से अस्पताल में होने या दूसरी जरूरत बताते हैं। साइबर अपराधियों द्वारा अधिकारी से जुड़े लोगों से गुगल पे, फोन पे या दूसरे किसी ऑनलाइन पैसे डिलिवरी एप के बारे में जानकारी मांगी जाती है। साइबर अपराधी बैंक खातों की जानकारी भी पैसे डालने के लिए शेयर करते हैं।