Home झारखंड झारखंड : कोरोना पीड़ित विधायक दूसरे के माध्यम से विधानसभा के मानसून...

झारखंड : कोरोना पीड़ित विधायक दूसरे के माध्यम से विधानसभा के मानसून सत्र में पूछेंगे सवाल, जानें क्यों लेना पड़ा निर्णय

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र 18 से शुरू होने जा रहा है। कोरोना संक्रमण और कई विधायकों के संक्रमित होने के कारण विधानसभा सचिवालय ने दिशा-निर्देश जारी किए हैं। कोरोना संक्रमित या कोरोना जैसे लक्षण मिलने पर संबंधित विधायक या मंत्री अपने सवाल अन्य विधायक के माध्यम से सदन में रख सकते हैं। इसकी सूचना 24 घंटे पहले सभा सचिवालय को देनी होगी। यह व्यवस्था झारखंड विधानसभा की कार्य संचालन नियमावली के तहत उपलब्ध छूट के प्रावधान के तहत की गई है। 

     जानकारी के अनुसार विधानसभा सचिवालय की ओर से विधायकों को कोविड-19 से संबंधित नए दिशा-निर्देशों से अवगत करा दिया गया है। सभा सचिवालय ने इस संबंध में पत्र जारी कर दिया है। विधायकों को विधानसभा में सामाजिक दूरी का अनुपालन करते हुए अकेले आने के लिए कहा गया है। उन्हें मास्क पहन कर आना होगा। फेस शिल्ड भी लगा सकते हैं। ग्लब्स पहनने की भी सलाह दी गई है। विधानसभा में प्रवेश के दौरान थर्मल स्कैनर से शरीर का तापमान लिया जाएगा। वहीं, सदस्यों के हाथों को सेनेटाइज्ड भी किया जाएगा। 

     विधानसभा की नियमावली में है प्रावधान  : संक्रमित विधायक को दूसरे विधायक से सवाल पूछने की छूट झारखंड विधानसभा की कार्य संचालन नियमानवली के तहत दी गई है। यह छूट सामान्य स्थिति में भी विधायक को उपलब्ध रहती है। 
एक बार सत्र में शामिल होकर सवाल पूछ चुके विधायक अगले दिन कार्यवाही के दौरान उपस्थित रहने में असमर्थ रहने पर अन्य विधायक से सवाल पुछवा सकते हैं। जानकारी के अनुसार पिछले सत्र में निर्दलीय विधायक सरयू राय ने ऐसा किया था।  

सेंट्रल एसी एक चुनौती : नवनिर्मित विधानसभा भवन में सेंट्रल एसी कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने में एक चुनौती बना हुआ है। सूत्रों के अनुसार विधानसभा सचिवालय इसका रास्ता निकालने का प्रयास कर रहा है। बिना लक्षण वाले संक्रमित व्यक्ति से एसी कमरे में संक्रमण फैलने की आशंका अधिक रहती है। अच्छा वेंटिलेशन संक्रमण को नियंत्रित करने में सहायक रहता है। 

 72 घंटे पहले काराना होगा कोविड-19 टेस्ट : विधानसभा सचिवालय की ओर से जारी दिशा-निर्देश के अनुसार विधायकों को सत्र प्रारंभ होने से 72 घंटे पहले अपना कोविड-19 टेस्ट कराना होगा। निगेटिव रिपोर्ट वाले विधायकों-मंत्रियों को ही सत्र में शामिल होना है। संदिग्ध या संक्रमित विधायकों को सत्र में शामिल नहीं होना है। संक्रमित सदस्यों के लिए कहा गया है कि वह अपना प्रश्न अन्य विधायक को प्राधिकृत करते हुए पूछ सकते हैं। 

विधानसभा भवन का सेनेटाइजेशन होगा : सत्र प्रारंभ होने से पहले विधानसभा भवन को अच्छी तरह सेनेटाइज करने के लिए सभा सचिवालय की ओर से नगर निगम को पत्र लिखा गया है। कोविड-19 से संबंधित प्रोटोकॉल को पूरा करने के लिए स्वास्थ्य विभाग को भी सूचित किया गया है। विधानसभा में प्रवेश नियंत्रित रखा जाएगा।  

Most Popular