जमुई में बालेश्वर कोड़ा दस्ते का सक्रिय नक्सली अनिल कोड़ा गिरफ्तार, पत्नी ने भी किया आत्मसमर्पण

fake before construction of ram temple in ayodhya one arrested ram mandir nirman in ayodhya

नक्सलियों के विरुद्ध जमुई, लखीसराय और मुंगेर पुलिस की संयुक्त कार्रवाई के दौरान गुरुवार को पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी। पुलिस टीम ने नक्सली कमांडर बालेश्वर कोड़ा दस्ते के सक्रिय सदस्य अनिल कोड़ा उर्फ़ अनिल दा उर्फ पप्पू पासवान को बरहट थाना क्षेत्र के कुकुरझप डैम के समीप से गिरफ्तार किया। बाद में गिरफ्तार नक्सली अनिल कोड़ा की पत्नी सह महिला दस्ते की सदस्य प्रिया देवी उर्फ गुड़िया ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया।

एसपी प्रमोद कुमार मंडल ने शु्क्रवार को समाहरणालय स्थित संवाद कक्ष में आयोजित प्रेस वार्ता में बताया कि पिछले दिनों लखीसराय में श्रृंगी ऋषि धाम के पुजारी को अगवा कर उसकी हत्या कर दी गई थी। उक्त मामले में भी अनिल कोड़ा की तलाश थी। उन्होंने कहा कि अनिल कोड़ा पर आधा दर्जन नक्सली घटनाओं को अंजाम देने का आरोप है। जबकि उसकी पत्नी गुड़िया की भी कई नक्सली मामलों में तलाश थी। उन्होंने  कहा कि बरहट के कुमरतरी गांव निवासी अनिल कोड़ा ने सघन पूछताछ में स्वयं को भाकपा माओवादी का सक्रिय सदस्य बताया है। उसने कई नक्सली वारदातों में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है। एसपी श्री मंडल ने बताया कि गिरफ्तार नक्सली 2010 में कजरा जंगल में बीएमपी और सैप जवानों से हथियार लूटने के साथ कई पदाधिकारी और कर्मियों की हत्या में शामिल था। 
कहते हैं डीआईजी 
डीआईजी मनु महाराज ने बताया कि नक्सलियों के खिलाफ लगातार मुंगेर रेंज में संयुक्त रूप से कार्रवाई चल रही है। यही कारण है कि जहां जमुई और मुंगेर में लगातार नक्सलियों को गिरफ्तार किया जा रहा है। वहीं नक्सली आत्मसमर्पण भी कर रहे हैं। पुलिस रणनीति बनाकर योजनाबद्ध तरीके से कार्य कर रही है।