कोरोना से लड़ाई : एसकेएमसीएच ने मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण व सहरसा जिले के सैंपल लेने पर लगाई रोक

two more corona infected died in bareilly 123 new positives found in 24 hours

एसकेएमसीएच में तीन जिलों के कोरोना सैंपल लेने पर फिलहाल रोक लगा दी गई है। आरटीपीसीआर मशीन के बीते चार दिनों से खराब पड़ी रहने के कारण यह नौबत आयी है। इस हालात में सैंपलों को प्रबंधन ने अस्पताल में नहीं रखने का निर्णय लिया है। अब स्वास्थ्य विभाग सभी सैंपलों को आरएमआरआई पटना मंगा रहा है।
एसकेएमसीएच में मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण व सहरसा के कोरोना सैंपलों की जांच होती है। तीनों जिलों से हर दिन करीब 1050 सैंपल जांच के लिए आते हैं। इसमें आरटीपीसीआर मशीन से जांच के लिए मुजफ्फरपुर से 300, पूर्वी चंपारण से 300 व सहरसा से 200 सैंपल आते हैं। वहीं, ट्रूनेट मशीन से जांच के लिए मुजफ्फरपुर से 50, पूर्वी चंपारण से 125 सैंपल व सहरसा से 75 सैंपल एसकेएमसीएच भेजे जाते हैं। एसकेएमसीएच में अभी जांच के लिए तीन हजार से अधिक सैंपल लंबित हैं।  

चार दिन से मशीन ठीक करने में लगे हैं इंजीनियर
चार दिनों से आरटीपीसीआर मशीन ठीक नहीं होने से एसकेएमसीएच प्रबंधन की परेशानी बढ़ती जा रही है। बीते शनिवार से लगातार इंजीनियर मशीन को ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन मशीन ठीक नहीं हो पा रही है। दूसरे राज्यों के इंजीनियर भी मशीन को ऑनलाइन ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन सफलता नहीं मिल रही।

मशीन में स्लाइड नहीं आ रही सही
एसकेएमसीएच के प्राचार्य डॉ. विकास कुमार ने बताया कि मशीन में जो समस्या है, वह दूर नहीं हो पा रही है। जांच के लिए जो स्लाइड बनती है, वह आरटीपीसीआर मशीन में ठीक-ठीक नहीं बन रही है। जबतक स्लाइड सही नहीं बनेगी, तबतक कोरोना की रिपोर्ट नहीं आएगी।

आरटीपीसीआर मशीन खराब होने के बाद से लगातार इंजीनियर ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं। मशीन चलने के बाद भी सैंपल की जांच के लिए जो स्लाइड बननी चाहिए, वह ठीक नहीं बन रही है। मशीन ठीक नहीं होते देख सैंपल लेने पर फिलहाल रोक लगा दी गई है।
-डॉ. विकास कुमार, प्राचार्य, एसकेएमसीएच