कंगना रनौत को Y+ की सुरक्षा मिलने पर कुब्रा ने बोलीं- क्या यह मेरे टैक्स के पैसे से दी जा रही?

               -

कंगना रनौत को केंद्र सरकार की तरफ से Y+ की सुरक्षा दी गई है। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि गृह मंत्रालय ने अर्द्धसैनिक बल के माध्यम से रनौत को वाई-प्लस श्रेणी की सुरक्षा उपलब्ध कराने का निर्णय किया है। अधिकारी ने बताया कि वाई-प्लस श्रेणी की सुरक्षा के तहत करीब 10 सशस्त्र कमांडों की तैनाती की जाती है।

कंगना को वाई श्रेणी सुरक्षा मिलने पर एक्ट्रेस कुब्रा सैत का रिएक्शन सामने आया है। कुब्रा ने ट्वीट किया, मैं बस चेक कर रही हूं, क्या ये मेरे टैक्स के पैसों से हो रहा है? 

 

कंगना ने कुब्रा को किया है ट्विटर पर ब्लॉक

कंगना ने कुछ दिनों पहले ट्वीट किया था कि मुंबई पुलिस उनके लिए असुरक्षित है। इसके साथ ही उन्होंने मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से कर दी थी। कंगना के इस ट्वीट पर फराह खान अली ने जवाब दिया था। कंगना ने इसके बाद फराह को ब्लॉक कर दिया था। इसके बाद कंगना ने कुब्रा को भी ब्लॉक कर दिया था। हालांकि कुब्रा ने उन्हें इस बारे में कुछ नहीं कहा था। लेकिन ब्लॉक होने पर कुब्रा ने ट्वीट किया था, अय्यो… मैं तो इस मामले में पूरी तरह से चुप थी। कोई भी ट्वीट उनके लिए नहीं किया है।  हम कट्टी हैं और उन्होंने मुझे बताया तक नहीं। मैंने उन्हें कह दिया है कि ये पर्सनल नहीं है।

 

रिया चक्रवर्ती के गिरफ्तार होने पर अंकिता लोखंडे ने की कर्मा की बात, कहा- आप अपने कर्मों से भाग्य बनाते हैं

बीएमसी ने कंगना को भेजा नोटिस, 24 घंटे में जवाब न मिलने पर ऑफिस के ‘गैर-कानूनी हिस्से’ को तोड़ेगी

हाल ही में बीएमसी (ब्रिहनमुंबई म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन) ने एक्ट्रेस के पाली हिल वाले ऑफिस पर सरप्राइज विजिट की। उन्होंने कंगना के खिलाफ नोटिस जारी कर कहा कि ऑफिस के निर्माण में करीब 8-10 उल्लंघन किए गए हैं। बीएमसी इस बारे में 24 घंटे के अंदर उनसे जवाब चाहती है। अगर एक्ट्रेस जवाब नहीं देती हैं तो ऑफिस के उन हिस्सों पर बुलडोजर चलाया जाएगा। एक्ट्रेस के ऑफिस स्टाफ ने बीएमसी का यह नोटिस लेने से इनकार कर दिया है। ऐसे में बीएमसी गेट पर नोटिस को चिपका कर चली गई है। 

कंगना रनौत का यह ऑफिस (मणिकर्णिका फिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड) ग्राउंड फ्लोर के साथ दो फ्लोर ऊपर तक बना है। जब बीएमसी ने ऑफिस के निर्माण का ढांचा देखा तो पाया कि ऑफिस के निर्माण के दौरान कई उल्लंघन किए गए हैं। कई जगहों को गलत तरीके से बढ़ाया गया है।