कंगना रनौत के ऑफिस पर BMC की जेसीबी चली तो अनुपम खेर ने जताई नाराजगी, कहा- किसी का घरोंदा तोड़ना गलत है

कंगना रनौत के ऑफिस पर BMC की जेसीबी चली तो अनुपम खेर ने जताई नाराजगी, कहा- किसी का घरोंदा तोड़ना गलत है

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत के मुंबई स्थित ऑफिस को बीएमसी ने बुधवार को तोड़ दिया। एक्ट्रेस का दावा है कि बीएमसी उनके ऑफिस में जबरदस्ती घुसी और उसपर अवैध निर्माण का केस बनाया। बीएमसी की इस कार्रवाई पर सेलेब्स रिएक्शन दे रहे हैं। वहीं, अब अनुपम खेर ने कंगना के ऑफिस को तोड़े जाने के लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है। 

अनुपम खेर ने ट्वीट किया, ”गलत गलत गलत है। इसको bulldozer नही  #Bullydozer कहते है। किसी का घरोंदा इस बेरहमी से तोड़ना बिल्कुल गलत है। इसका सबसे बड़ा प्रभाव या प्रहार कंगना रनौत के घर पर नहीं बल्कि मुंबई की जमीन और जमीर पर हुआ है। अफसोस अफसोस अफसोस है।” अनुपम खेर के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

मास्क पहनकर साइकलिंग करते हुए नजर आए सलमान खान, फैन्स से कही यह खास बात

इससे पहले कंगना रनौत की फिल्म मणिकर्णिका को-स्टार अंकिता लोखंडे ने एक्ट्रेस को सपोर्ट करते हुए एक पोस्ट लिखी थी। अंकिता ने कंगना रनौत की एक फोटो शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘बहादुर प्यार, तुम ऐसे ही रहो कंगना टीम।’ वहीं, कंगना रनौत के सपोर्ट में सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने भी ट्वीट कर लिखा था कि आज मैं कंगना रनौत के साथ खड़ी हूं। कंगना न सिर्फ खुद के लिए चीजें बना रही हैं बल्कि कई महिलाओं के लिए उम्मीद की किरण बन रही हैं। उनके साथ, आप, मैं, हम सब कर सकते हैं। यह पैट्रिआर्की है, महिला की इज्जत को मिट्टी में मिलाना, उसके द्वारा बनाई चीजों को तोड़ना और सेल्फ रिस्पेक्ट को चोट पहुंचाना।

कंगना रनौत के सपोर्ट में उतरीं श्वेता सिंह कीर्ति ने की ‘राम राज’ की डिमांड, ट्रोल्स बोले- कहां गए सुशांत के लिए इंसाफ के नारे?

इसके अलावा एक्ट्रेस रेणुका शहाणे ने भी बीएमसी द्वारा कंगना रनौत के ऑफिस तोड़ने पर आपत्ति जताई थी। उन्होंने लिखा था कि हालांकि मुझे कंगना का वह कॉमेंट पसंद नहीं आया, जिसमें उन्होंने मुंबई को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर कहा। लेकिन मुझे बीएमसी द्वारा तोड़फोड़ पर भी आपत्ति रही। आप इतना नीचे नहीं गिर सकते हैं। इसके साथ ही रेणुका ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से अपील की थी कि वह इस मामले को देखें। हम पहले से ही इस महामारी में हैं क्या हमें और बेकार के ड्रामे देखने चाहिए?